Hindi Shayari Dil Se

Hindi Shayari Pictures, Love Shayari, Romantic Shayari, Pyar Shayari, Mohabbat Shayari, Dosti Shayari, Sad Shayari, Dardbhari Shayari, Bewafai, Tanhai, Judai, Yaadein Shayari, Suvichar Shayari

loading...

Month – May 2014

Sad Shayari in Hindi – Part-2 (Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)

Advertisements
Shikayat Shayari, Dard Bhari Shayari, Sad Shayari, 2 Lines Shayari, 4 Lines Shayari
Sad Shayari in Hindi – Part-2
(Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)
दम तोड़ जाती है हर शिकायत लबों पे आकर,
जब मासूमियत से वो कहती है मैंने क्या किया है
?
=-=-=-=-=
सलीक़ा हो अगर भीगी हुई आँखों को पढने का,
तो फिर बहते हुए आंसू भी अक्सर बात करते हैं
=-=-=-=-=
डरता हूँ कहने से की मोहब्बत है तुम से ……!!
की मेरी जिंदगी बदल देगा तेरा इकरार भी और इनकार भी …!!
=-=-=-=-=
मै फिर से निकलूंगा तलाश -ए-जिन्दगी में ….
दुआ करना दोस्तों इस बार किसी से इश्क ना हो
…..
=-=-=-=-=
उसके सिवा किसी और को चाहना मेरे बस में नहीं,
ये दिल उसका है,
अपना होता तो बात और थी
=-=-=-=-=
ये भी एक तमाशा है इश्क ओ मोहब्बत में
दिल किसी का होता है और बस किसी का चलता है
=-=-=-=-=
रूह तक नीलाम हो जाती है इश्क के बाज़ार में,
इतना आसान नहीं होता किसी को अपना बना लेना
=-=-=-=-=
हमें कोई ग़म नहीं था, ग़म-ए-आशि़की से पहले,
न थी दुश्मनी किसी से, तेरी दोस्ती से पहले
=-=-=-=-=
किरण चाहू तो दुनिया के सरे अँधेरे घेर लेते है
|
कोई मेरे तरह जी ले तो जीना भूल जायेगा ||
=-=-=-=-=
साथ भी छोडा तो कब,जब सब बुरे दिन कट गए |
ज़िन्दगी तुने कहा आकर दिया धोखा मुझे ||
=-=-=-=-=

हमें इस चिस्त से उम्मीद क्या थी और क्या निकला
|
कहा जाना हुआ था तय कहा से रास्ता निकला ||
खुदा जिनको समझते थे वो शीशा थे न पत्थर थे
|
जिसे पत्थर समझते थे वही अपना खुदा निकला
||
=-=-=-=-=
अगर टूटे कीसी का दिल ,तो शब् भर आख रोती है |
ये दुनिया है गुलो की जी इसमें काटे पिरोती है
||
हम मिलते है अपने गाओ में दुश्मन से भी इठला कर |
तुम्हारा शहर देखा तो बड़ी तकलीफ होती है ||
=-=-=-=-=
मेरी आँखों में आसूं, तुझसे हम दम क्या कहूं क्या है.
ठहर जाये तो अंगारा है,बह जाये तो दरिया है.
=-=-=-=-=
कहाँ नहीं तेरी यादों के हाथ
कहाँ तक कोई दामन बचा के चले
=-=-=-=-=
पूछ कर मेरा पता बदनामिया मत मोल ले
ख़त किसी फूटपाथ पर रख दे,
मुझे मिल जायेगा
 =-=-=-=-=
अपने हालात का खुद पता नहीं मुझको,
मैंने औरों से सुना है के मैं परेशां हूँ आजकल…
=-=-=-=-=
आज कोई नया जख्म नहीं दिया उसने मुझे,
कोई पता करो वो ठीक तो है ना
=-=-=-=-=
ऐंसे नहीं न सही,
वैसे ही सही
बस, एक बार तुम हाँ तो कहो ?
=-=-=-=-=
जब वो मिले हमसे अरसे बाद तो उन्होने पूछा हाल
-चाल कैसा है,
तो मैने कहा तुम्हारी चली चाल से मेरा हाल बदल गया,
=-=-=-=-=
Maut Se Keh Do Ki Hum Se Naraazgi Khatam Kar le Ab…!
Wo Bahut Badal Gaye Hai Jinke Liye Hum Jiya Karte Hain…
=-=-=-=-=
Tu hosh me thi phir bhi hume pehchaan na paai
Ek hum hai ki pee kar bhi tera naam lete rehte hai…
=-=-=-=-=
Un parindo ko kaid karna meri fitrat me nahi…
jo mere dil k pinjre me reh kar bhi dusro ke sath udne ke
shauk rakhte hai…
=-=-=-=-=
Tum rakh na sakoge mera tohfa
sambhal kr…
Warna abhi dil de deta apne sine
se nikal kar..!!!
=-=-=-=-=
Hamare baad nahi aayga tumhe chahat ka maza…
Tum sab se kehty firogy mujhe chaho uski tarah…
=-=-=-=-=
Tum Aaj Har Saans K Sath Yaad Aa Raahe Ho,,
Ab Teri Yaad Ko Rok Dun…Ya Apni Saans Ko…??
=-=-=-=-=
Paas Rahne Se Bhi Kam Nahi Hota…!!
Faaasla Jo Dilo’n Mein Hota Hai…!!
=-=-=-=-=
Bohat Rokta Hoon Khud Ko Tumhein Yaad Karne Sy . . .
Lakein Kya Karon, Ye Nadan Dil Na-Farmaan Bohat Hai…
=-=-=-=-=
Har Raat Guzarti Hai Meri Taron Ke Darmiyaa’n.
Main Chaand To Nahi Mgar Tanha Zarur hoon…
=-=-=-=-=
Dhoond raha hon Lekin Nakaam hoo abhi Tak….,
Wo Lamha, jis mein tu yaad Na aayi ho….
=-=-=-=-=
Jinn Ke Paas Hoti Hain Umer Bhar Ki Yadain,
Woh Log Tanhai Mein Bhi Tanha Nahi Hotay..
=-=-=-=-=
Pachtaya bahot uss k darwaze per dastak de kar
dard ki inteha ho gai jab uss ne poocha kon ho tum..
=-=-=-=-=
Mohbbat Main Jhukna Koi Ajeeeb Baat Nahi,
Chamakta Suraj Bhi to Dhal Jata Ha Chaand k Liye.! …
=-=-=-=-=
Maujood thi Udaasi abhe Pichhli Raat Ki,,
Behla tha DiL Zara Sa K Phir Raat ho Gai.!
=-=-=-=-=
Hum bhi maujood thy taqdeer k darwaazey par…
Log daulat par girey, humney tujhe maang liya….
=-=-=-=-=
Un Ko Dekha To kisi chiz ki Gumshudgi Ka Ehsaas Huwa
Hath Seene Pe Jo Rakha To Dil Maujood Na Tha,…
=-=-=-=-=
Toot sa gaya hai meri chahato ka wajood…
Ab koi achchha b lage to ham izhaar nahi karte…
=-=-=-=-=
Shikway Shikayatou’n ki Nahi..Yeh Zarf Zarf Ki Baat He..
Tere Vehm-O-Guma’n Mei’n Bhi Hum Nahi,Aur Tu Lafz Lafz
Hamai’n Yaad Hy…….
=-=-=-=-=
Yun To Har Rang Ka Mousam Mujhse Waqif Hai Magar,
Raat-E-Tanhaiyan Mujhe Kuch Alag Hi Janti Hain…
=-=-=-=-=
Sach He, Insaan Ki Khwahisho Ki Koi Had Nhi……
Meri Un’ginat Khwahishe Dekho Wo,Wo Or Bas Wo……
=-=-=-=-=
Nam Hai Palkain Teri Ae Moj-e Hawa Raat Ke Saath
Kya Tuje Bi Koi Yad Aata Hai Barsat Ke Sath..
=-=-=-=-=
Is Baarish Ke Mausam Main Ajeeb Si Kashish Hai ….
Na Chahte Hue Bhi Koi Shiddat Se Yaad Aata Hai….…
=-=-=-=-=
Rim Jhim Rim Jhim Baras Rahi Hai …
Yaad Tumhaari Qatraa Qatraa…
=-=-=-=-=
Jo Mujh se Tooti Thi Wo chorriyan Sasti Thii…..
Bahut mehnga Tha woH Dil Jo Tu Ne Tod Dala…..
=-=-=-=-=
Nahi Milega Mujh Jaisa Tujhe Chahne Waala. . .!!
Jaa Tujhe Ijaazat Hai Saari Duniya Aazma Le. . .!!!
=-=-=-=-=
Anjaam Ki Parwa Hoti To Me Ishq
karna Chhod Deta”
”Ishq Me Zid Hoti He Or Zid ka Me Betaaj Badshah Hun….”
=-=-=-=-=
Ishq ka samandar bhi kya samandar hai,
jo doob gaya wo aashiq jo bach gaya wo deewana…
=-=-=-=-=
Karo phir se koi wada, kabhi na phir bichhadne ka ….
tumhein kya faraq padta hai chalo phir se mukkar jana …
=-=-=-=-=
Chal chup kar, uss ki gawahiyyan, saffaiyyan …
Tu mera DIL he ya US bewafa ka wakeel ….!!!
=-=-=-=-=
Meri khamoshi tumhen rulaigee…
Zara yeh waqat beat jany do….!!
=-=-=-=-=
Auron se to umeed ka rishta bhi nahi tha….
Tum itne badal jao gay socha bi nai tha…..
=-=-=-=-=
Darpok hai woh log, Jo pyaar nahi karte.
Saala barbad hone ke liye bhi jigar chahiye…
=-=-=-=-=
Phool yuhi nahi khilte,
beej ko dafan hona padta hai …
=-=-=-=-=
Chahat, Fikar, Taqdeer, Isqh-Mohabbat, Or Wafa…
‪Meri In Hi Adaton Ne Mera Tamasha Bana Diya…
=-=-=-=-=
Muhabbat ki haqeeqat mein ..
Khamooshii aakhri sach hai…
=-=-=-=-=
Har koi Deta Hai Zakham Gin Gin ke ‘Be-Wajha’….!
Mein Kis kis Zakham Ko Apna Naseeb Samjhoon…!
=-=-=-=-=
Sikha Di Bewafai Tumhe B Zalim
Zamane Ne..!!
Tum Jo Seekh Lete Ho, Hum Hi Pe Azmate Ho..
=-=-=-=-=
Taqdeer Ka Hi Khel Hai Sab….. ,
Par ,
Khwahishe’n Samjh’ti Hi Nahi……!!!
=-=-=-=-=
लम्हों की दौलत से दोनों महरूम रहे ,
मुझे चुराना न आया,
तुम्हें कमाना न आया
=-=-=-=-=
अब किसी और से मुहब्बत करलू तो शिकायत मत करना…।।
ये बुरी आदत भी मुझे तुमसे ही लगी है…..।।
=-=-=-=-=
टूट  कर  भी  कम्बख्त  धड़कता  रहता  है ,
मैने
इस  दुनिया  मैं  दिल   सा  कोई  वफादार नहीं  देखा।
……
=-=-=-=-=
अगर यूँ ही कमियाँ निकालते रहे आप….
तो एक दिन सिर्फ खूबियाँ रह जाएँगी मुझमें….
=-=-=-=-=
मेरी मंज़िल मेरी हद ।
बस तुमसे तुम तक ।।
ये फ़क्र है कि तुम मेरे हो ।
पर फ़िक्र है कि कब तक ।।
=-=-=-=-=
बहुत आसान है पहचान इसकी
अगर दुखता नहीं तो दिल नहीं है
=-=-=-=-=
अगर है दम तो चल डुबा दे मुजको,
समंदर नाकाम रहा, अब तेरी आँखो की बारी.
=-=-=-=-=
ना इतना चाह मुझे की तेरा तलब्दार बन जाऊ,
तेरी मोहब्बत दीवानगी का में हकदार बन जाऊ,
मेरे मुक़द्दर तक़दीर की तू परवाह ना किया कर,
ऐसा ना हो की में खुद तुझ में तेरी तस्वीर बन जाऊ…
=-=-=-=-=
क्या फर्क है दोस्ती और मोहोब्बत में,
रहते तो दोनों दिल में ही है…?
लेकिन फर्क तो है…..
बरसो बाद मिलने पर दोस्ती सीने से लगा लेती है,
और मोहोब्बत नज़र चुरा लेती है…!!
=-=-=-=-=
दिन तो कट जाता है शहर की रौनक में ,
कुछ लोग याद बहुत आते है दिन ढल जाने के बाद…
=-=-=-=-=
ये वक़्त बेवक़्त मेरे ख्यालों में आने की आदत छोड़ दो तुम,
कसूर तुम्हारा होता है और लोग मुझे आवारा समझते हैं..!!
=-=-=-=-=
सुनकर ज़माने की बातें, तू अपनी अदा मत बदल,
यकीं रख अपने खुदा पर, यूँ बार बार खुदा मत बदल……!!
=-=-=-=-=
तुमने कहा था हर शाम तेरे साथ गुजारेगे,
तुम बदल चुके हो या फिर तेरे शहर में
शाम ही नहीं होती?
=-=-=-=-=
तेरी मोहब्बत की तलब थी तो हाथ फैला दिए वरना,
हम तो अपनी ज़िन्दगी के लिए भी दुआ नहीं करते…
=-=-=-=-=
ये कफ़न,
ये कब्र,
ये जनाज़े,
सब रस्म ऐ दुनिया है दोस्त,
मर तो इन्सान तब ही जाता है,
जब याद करने वाला कोई ना हो.
=-=-=-=-=
हम अपने पर गुरुर नहीं करते,
याद करने के लिए किसी को मजबूर नहीं करते.
मगर जब एक बार किसी को दोस्त बना ले,
तो उससे अपने दिल से दूर नहीं करते.
=-=-=-=-=
फ़लक पर कबूतर दिखे जब कभी,
बहुत याद आयीं तेरी चिठ्ठियाँ..
=-=-=-=-=
फिर से मुझे मिट्टी में खेलने दे खुदा,
ये साफ़ सुथरी ज़िन्दगी, ज़िन्दगी नहीं लगती।
=-=-=-=-=
लोग कहते हैं पिये बैठा हूँ मैं,
खुद को मदहोश किये बैठा हूँ मैं,
जान बाकी है वो भी ले लीजिये,
दिल तो पहले ही दिये बैठा हूँ मैं
=-=-=-=-=
वो इस कमाल से खेले थे इश्क की बाजी …..!!
मैं अपनी फतह समझता रहा मात होने तक…!!!
=-=-=-=-=
जब इश्क और क्रांति का अंजाम एक ही है
तो राँझा बनने से अच्छा है भगतसिंह बन जाओ
=-=-=-=-=
अजीब था उनका अलविदा कहना !सुना कुछ नहीं और कहा भी कुछ नहीं!
बर्बाद हुवे उनकी मोहब्बत में, की लुटा कुछ नहीं और बचा भी कुछ नहीँ !
=-=-=-=-=
बेगाना हमने नही किया किसी को अपने से,
जिसका दिल भर गया वो छोड़ता चला गया….
=-=-=-=-=
बेखबर हो गए है कुछ दोस्त हमसे,
जो हमारी ज़रूरत को महसूस नहीं करते.
कभी बहुत बातें किया करते थे हमसे,
अब खेरियत तक नहीं पूछते…!!!
=-=-=-=-=
कभी ऐसी भी बेरुखी देखी है तुमने
“”एय दिल “”
लोग आप से तुम
,
तुम से जान ,
और जान से अनजान हो जाते हैं…
=-=-=-=-=
सुनो, आज खुशी मिली थी डिबिया में बंद कर के रख ली है
तुम मिलोगें,
तो मिल-बाँट के खायेगें, नहीं तो शायद मीठी न लगे
!!
=-=-=-=-=
बर्बाद कर के मुझे उसने पूछा,
करोगे फिर मुहब्बत मुझसे
?………
लहू लहू था दिल मगर होंठों ने कहा…”इंशा-अल्लाह”….!!
=-=-=-=-=
कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं,
लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं,
हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर,
की पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं…!!!
=-=-=-=-=
पूछा जो हमने किसी और के होने लगे हो क्या
?
वो मुस्कुरा के बोले
… पहले तुम्हारे थे क्या
.?
=-=-=-=-=
हालात ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागे की तरह…
वरना हमारे वादे भी कभी ज़ंजीर हुआ करते थे..
=-=-=-=-=
किसी ने ग़ालिब से कहा :
सुना है जो शराब पीते हैं उनकी दुआ कुबूल नहीं होती !!
ग़ालिब बोले
:
जिन्हें शराब मिल जाए उन्हें किसी दुआ की ज़रूरत नहीं होती ।।……….
=-=-=-=-=
फकीर हूँ सिर्फ तुम्हारे दिल का,
बाकी दुनिया का तो सिकन्दर ही हु….
=-=-=-=-=
हथेलिया भर भर के दर्द न दे मुझे,
दर्द के समंदर ले बैठा हूँ में….
=-=-=-=-=
कदम रुक से गए आज फूलो को बिकता देख …
वो अक्सर कहा करते थे की प्यार फूलो जैसा होता हें…
=-=-=-=-=
धोखा दिया था जब तूने मुझे.
जिंदगी से मैं नाराज था,
सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं. मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था…
=-=-=-=-=
तुम न रख सकोगे मेरा तोहफा संभालकर
वरना मै अभी दे दूँ, जिस्म से रूह निकालकर
=-=-=-=-=
Nahi Milti wafa ab un pyar ke rishto mein,
Dunya mein Logon k badal jane ki rasm Aam ho gai hai…
=-=-=-=-=
Zaroori To Nahi Mohabbat Lafzon Me Bayan Ho,
Kya Sach Mein Meri Aankhen Tmhain Kuch Nahi Kehti !!!!!
=-=-=-=-=
Mein toh tere ehsaas se hee mehak gaya…
agar ishq hota toh mere khuda naa jane kaya hota……
=-=-=-=-=
Woh mere dil par rakh kar seer soi thi bekhabar..,
Hum ne dhadkan hi rok li …ki kahin uski neend naa toot
jaaye..
=-=-=-=-=
Khairaat Mein Mili Khushi Humen Acchi Nahi Lagti
Rehte Hain Hum Apne Dukhon Mein Nawaabon Ki Tarah…
=-=-=-=-=
Zakham Dene ki Aadat Nhi Humko,
Hum to Aaj b Wo Ehsaas Rakhte hai,
Badle-Badle to Aap Hai Janab,
Hamare Alawa Sabko Yaad Rakhte Hai…
=-=-=-=-=
Hum To Samjhe The ke Zakham Hai Bhar Jayega..
Kya khabar Thi Ke Rog Dil ME Utar jayega..
=-=-=-=-=
Theek Likha Tha Mere Hath Ki Lakeeron Mei…
Tu Agar Pyar Karega To Bikhar Jayega..
=-=-=-=-=
Badi mushkil se bnaya tha apny ap ko kabil us k….
us ne ye keh kr bikhair diya…..
k tujh se muhabbat to ha pr tujhy pany ki chaht nai……..
=-=-=-=-=
Unka waada hai ki woo laut ayenge,
issi umeed par hum jiye
jayenge,
yeh intezaar bhi unhi ki tarah pyaara hai,
kar rahe the, kar rahe hai
or kiye jayenge.
=-=-=-=-=
Jeene ki arzoo me mare jaa rahe hai log….
Marne ki aarzoo me jee raha hu me..
=-=-=-=-=
Qatal Huwa Humara Iss Tarha
Qiston Main..!
Kabhi Khanjar Badal Gaye Kabhi
Qaatil Badal Gaye…!
=-=-=-=-=
Sukoon milta hai doh lafz kaagaz par utaar kar…
Keh bhi deta hu aur awaaz bhi nahi aati…
=-=-=-=-=
Teri yaadon ki baarish jab bhi
barasti hai mujh par…..
Main bheeg zaroor jaata hoon
sirf palkon ki hadd tak…..
=-=-=-=-=
Dil sulagta hai Tere sard ravaiyye se Qateel
Dekh is barf ne kya aag lga rakhi hai..
=-=-=-=-=
Khwab me b WO ab nahi Aaty
Nafratain in dino Arooj pe hain..
=-=-=-=-=
Hum Sache Jazbon Ki Badi Qadar Kia Krte Hain…
Ye alag bat h ki taqdeer lipat kr rone lagi,
warna baahein toh tujhe dekh kar feli thi…
=-=-=-=-=
Mai Tumse kaise kahun Yar-e-Meharban Mere…
K Tu Hi Ilaaj Hai meri har Udaasi ka…
=-=-=-=-=
Hadd se badh chuka hai aapka nazar andaaz karna
aisa salook na karo k hum bhulne pe mazbur ho jaye!!
=-=-=-=-=
Kitnay Majboor Hain Taqdeer Kay Haathon,
Na usy panay ki Auqat, Na usy khony ka hosla….!
=-=-=-=-=
Ho Sakti Hy Muhabbt Zindgi Meh Dubara B…
Bas Hosla Ho, Ek Dafa Phir “Barbaad” Hone Ka…!!!
=-=-=-=-=
Pehla Sa Wo JunooN,,
Wo Mohabbat Nahi Rahi,,
Kuch Kuch Sambhal Gaye Hain,
Unki Duaa Se Hum..!!
=-=-=-=-=
Mayoos Ho Gaye Hain hum Zindagi ke Safar Sy,
Maqsad Ki Mohabat , Matlab Ki
Dostiyaa , Dikhawy K Rishty…!
=-=-=-=-=
“MOHABBAT” k ilawa Kuch Nahi Tha teri Ankhon Me,
Yeh “NAFRAT” Ab Zamane Ki Kahan Se seekh Li Tum ne…!!!
=-=-=-=-=
Muhabbat Hay K Nafrat Hay Koi Itna Tou Samjhaye..
Kabhi Main Dil Say Ladta Hun, Kabhi Dil Mujh Say Ladta
Hay…!!
=-=-=-=-=
Tum Jante Ho Mery Dil Ki Awaaz….???
Khair Choro!! Jante Hote To Mere Hote…!!
=-=-=-=-=
Mohabbat Kisi Se Tab Hi Karna
Jab Mohabbat Ko Nibhana Seekh Lo…!!
Majburiyoon Ka Sahara Lekar Chhod Dena Wafadari Nahi Hoti…!!
=-=-=-=-=
Ajeeb Ristha Raha Kuch Is Tarha Apno Se Apna,
Na Nafrat Ki Waja Mili, Na Mohabbat Ka Sila…!!
=-=-=-=-=
Kabhi na kabhi wo mere bare me sochengi zaroor…
Ki haasil hone ki ummid bhi nahi hai phir bhi pyaar karta
hai mujse….
=-=-=-=-=
इतनी शिद्दत से वो शख्स मेरी रगो मै उतर गया है,
कि उसे भुलाने कि लिये मुझे मरना होगा,
=-=-=-=-=
मोहब्बत का अजीब दस्तूर देखा,
जो उसकी जीत हो तो हम हार जाये,
=-=-=-=-=
ऐंसे नहीं न सही,
वैसे ही सही
बस, एक बार तुम हाँ तो कहो ?
=-=-=-=-=
ए जिन्दगी खत्म कर अब ये यादो के सिलसिले,
मै थक सा गया हू दिल को तसल्लिया देते देते,
=-=-=-=-=
हमसे मत पूछिए जिंदगी के बारे में
अजनबी क्या जाने अजनबी के बारे में
=-=-=-=-=
तुम्हे मोहब्बत करना नहीं आता
मुझे मोहब्बत के सिवा कुछ नहीं आता
ज़िन्दगी जिने के दो ही तरीके है
एक तरीका तुम्हे नहीं आता, एक मुझे नहीं आता
=-=-=-=-=
किसी को भुलाने के लिए ना मर जाना तुम..
क्या जाने कौन तुम्हारी राह देख रहा होगा
!!
=-=-=-=-=
हम तो रो भी नहीं सकते उसकी याद में
उसने एक बार कहा था
मेरी जान निकल जाएगी
तेरे आंसू गिरने से पहले..
=-=-=-=-=
आँसू की कीमत जो समझ ली उन्होने..
उन्हे भूलकर भी मुस्कुराते रहे हम
..
=-=-=-=-=
चले जायेंगे तुझे तेरे हाल पर छोड़कर
कदर क्या होती है तुझे वक़्त सिख देगा
Search Terms : Hindi Sad Shayari, Tanhai Shayari, Judai Shayari, Bewafai Shayari, Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Udaas Shayari, Dard Bhari Shayari, Sad Shayari In Hindi Font, Shayari In Text, Loneliness  Shayari, 2 Lines Shayari, Hindi Shayari Collection, Heart Touching Shayari
Advertisements

Hindi Sad Shayari : Beintha mohabbat ka, Aaj sila diya hai usne…..

Hindi Sad Shayari : Beintha mohabbat ka, Aaj sila diya hai usne…..
Sad Shayari On Images, Hindi Shayari Pictures, Shayari Wallpapers :
Beintha mohabbat ka,
Aaj sila diya hai usne…..
Dosti ka wasta deker,
Aaj daga diya hai usne,
Karte bhi to kya shikayat,
Kisi se ham unki…..
Jis dil me rahte the wo,
Aaj usi dil ko tod diya usne,
Advertisements

Sad Shayari in Hindi Part-1 – (Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)

Hindi Sad Shayari, Hindi Shayari Collection
Sad Shayari in Hindi Part-1 –
(Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)
तू हज़ार बार
भी रूठे तो
मना लूँगा तुझे,
मगर देख, मुहब्बत
में शामिल कोई
दूसरा ना हो.
=-=-=-=-=
अच्छा हुआ तुम
किसी और के
हो गए,
खत्म हो गई
फिकर तुम्हेँ अपना
बनाने की..
=-=-=-=-=
जब भी वो
उदास हो उसे
मेरी कहानी सुना
देना ,
मेरे हालात पर हंसना
उसकी पुरानी आदत
है
=-=-=-=-=
शौक से तोड़ो
दिल मेरा मुझे
क्या परवाह,
तुम ही रहते
हो इसमें अपना
ही घर उजाडोगे.
=-=-=-=-=
फुरसत में करेंगें
तुझसे हिसाब ये
जिंदगी |
अभी उलझे हैं
हम खुद को
ही सुलझाने
=-=-=-=-=
वो हमारा हाल भी
ना पुछ सके
हमें बैहाल देखकर।
और हम कुछ
बता भी ना
सके उस बेवफा
को खुशहाल देखकर।
=-=-=-=-=
मेरे सारे “कसूरों” पर
भारी ., मेरा एक
“कसूर” है …,
मैं उसे “पसंद” करता
हूँ , बस इसी
बात का उसे
“गुरूर” है
=-=-=-=-=
तेरे पास भी
कम नहीं, मेरे
पास भी बहुत
हैं,
ये परेशानियाँ आजकल फुरसत
में बहुत हैं…
=-=-=-=-=
किसी को अपना
बनाने का हुनर
है तुममें,
काश किसी का
बनकर रहने का
हुनर भी होता…
=-=-=-=-=
तेरी पहचान भी न
खो जाए कहीं,
इतने चेहरे ना बदल
थोड़ी सी शोहरत
के लिए..
=-=-=-=-=

ज़िन्दगी जब मायूस
होती है
तभी महसूस होती है…
=-=-=-=-=
उससे कह दो
कि मेरी सज़ा
कुछ कम कर
दे,
हम पेशे से
मुज़रिम नहीं हैं
बस गलती से
इश्क हुआ था…
=-=-=-=-=
मेरी दास्ताँ-ए-वफ़ा
बस इतनी सी
है,
उसकी खातिर उसी को
छोड़ दिया…
=-=-=-=-=
रूठा रहे वो
मुझसे ये मंज़ूर
है हमें लेकिन,
यारो उसे समझाओ
के मेरा शहर
न छोड़े…
=-=-=-=-=
सिखा दी बेवफ़ाई
करना ज़ालिम ज़माने
ने तुम्हे,
कि तुम जो
भी सीख जाते
हो हम पर
ही आजमाते हो…
=-=-=-=-=
तेरी-मेरी राहें
तो कभी एक
थी ही नहीं,
फिर शिकवा कैसा और
शिकायत कैसी…
=-=-=-=-=
मिर्ज़ा ग़ालिब :
उड़ने दे इन्
परिंदो को आज़ाद
फ़िज़ा में ग़ालिब,
जो तेरे अपने
होंगे वो लौट
आयेंगे किसी रोज़…
=-=-=-=-=
इक़बाल :
न रख उम्मीद-ऐ-वफ़ा
किसी परिंदे से
इक़बाल,
जब पर निकल
आते हैं तो
अपने भी आशियाना
भूल जाते है…
=-=-=-=-=
वो सितारा है चमकने
दो यूँ ही
आँखों में,
क्या ज़रूरी है उसे
हाथ लगाकर देखो..
=-=-=-=-=
यूँ ना खींच
मुझे अपनी तरफ
बेबस कर के,
ऐसा ना हो
के खुद से
भी बिछड़ जाऊं
और तू भी
ना मिले..
=-=-=-=-=
वफादार और तुम…??
ख्याल अच्छा है,
बेवफा और हम…??
इल्जाम भी अच्छा
है…
=-=-=-=-=
Isse acha hum chand se mohbbat kar lete …!
Lakh dur sahi par dikhai to deta hai…!
=-=-=-=-=
Is Baarish Kay Mausam Main Ajeeb Si Kashish Hai
Na Chahte Howay Bhi Koi Shidat Say Yaad Aata Hai….…
=-=-=-=-=
Ahistaa Ahistaa Zindagi Se Nafrat Ho Rahi Hai…
Lagta He Dubara Is Dil Ko Muhabat Ho Rahi Hai…
=-=-=-=-=
ये दुनिया वाले भी बड़े अजीब होते है
कभी दूर तो कभी क़रीब होते है
दर्द ना बताओ तो हमे कायर कहते है
और दर्द बताओ तो हमे शायर कहते है ….
=-=-=-=-=
Dushman Ho, To Ishq Jesa
Seedha Dil Per, Waar Kare..
=-=-=-=-=
क़ब्रों में नहीं हमको किताबों में उतारो,,
हम लोग मुहब्बत की कहानी में मरे हैं..!!
=-=-=-=-=
कितना भी चाहो ना भूला पाओगे
हमसे जितना दूर जाओ नज़दीक पाओगे
हमे मिटा सकते हो तो मिटा दो
यादें मेरी, मगर….
क्या सपनो से जुदा कर पाओगे हमे!!
=-=-=-=-=
अब तुझे रोज़ ना सोचें तो तड़प उठते हैं हम…..!
एक उम्र हो गयी है तेरी याद का नशा करते करते….!!
=-=-=-=-=
जिंदगी में दोस्त बहुत कम मिलेंगे,
हर मोड़ पे गम ही गम मिलेंगे.
जिस मोड़ पे आपको छोड़ देगी ये दुनियाँ,
उस मोड़ पे आपको सिर्फ़ हम मिलेंगे.
=-=-=-=-=
कसूर मेरा था तो कसूर उनका भी था,
नज़र हमने जो उठाई थी तो वो झुका भी सकते थे…”
=-=-=-=-=
अजीब शख्स है..
इश्क मे खुशियां तलाशता है….
=-=-=-=-=
तनहा रहेने का भी अपना मज़ा है दोस्तों…….
यकीन होता है की कोई छोड़कर नहीं जायेगा,
और
उम्मीद नहीं होती किसी के लौट आने की…!!
=-=-=-=-=
वो सो जाते हे अक्सर हमें याद् किये बगैर,
हमें नींद भी नहीं आती उनसे बात किये बगैर.
कसूर उनका नहीं हमारा है….
उन्हें चाहा भी तो उनकी इजाज़त के बगैर……!!
=-=-=-=-=
हर कोई मुझे जिंदगी जीने का तरिका बताता है।
उन्हे कैसे समझाऊ की एक ख्वाब अधुरा है मेरा…
वरना जीना तो मुझे भी आता है.
=-=-=-=-=
शौक था अपना-अपना..
किसी ने इश्क किया,
तो कोई जिंदा रहा…
=-=-=-=-=
” तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी..,
एक हम है कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे….”
=-=-=-=-=
हम तो मशहुर थे अपनी तनहाइयों के लिए ,
मुद्तों बाद किसीने पुकारा है,
एक पल तो हम रुक कर सोचने लगे,
कया यही नाम हमारा है ?
=-=-=-=-=
बिकने वाले और भी हैं, जाओ जा कर ख़रीद लो
हम  ‘कीमत’
से नहीं ‘क़िस्मत’ से मिला करते हैं.
=-=-=-=-=
अगर प्यार में पैसे की अहमियत
नहीं होती तो हर कहानी में
लड़की के ख्वाबों में कोई राजकुमार
ही क्यों होता है?
कभी सुना है कि “मेरे सपनों का मोची,
बारात ले कर आएगा” ???….
=-=-=-=-=
ये वक़्त बेवक़्त मेरे ख्यालों में आने की आदत छोड़ दो तुम,
कसूर तुम्हारा होता है और लोग मुझे आवारा समझते हैं..!!
=-=-=-=-=
ख्वाइश बस इतनी सी है की तुम मेरे लफ़्ज़ों को समझो….
आरज़ू ये नही की लोग वाह वाह करें.
=-=-=-=-=
गिरा दे जितना पानी है तेरे पास ऐ बादल.
ये प्यास किसी के मिलने से बुझेगी तेरे बरसने से नही।
=-=-=-=-=
किसी को मिल गया मौका, बुलन्दियों को छूने का,
मेरा नाकाम होना भी किसी के काम तो आया।
=-=-=-=-=
ना जाने इस ज़िद का नतीजा क्या हो…..
समझता दिल भी नहीं, वो भी नहीं,मैं भी नहीं….!!
=-=-=-=-=
आदत मुझे अँधेरों से डरने की डाल कर……..
कोई मेरी जिंदगी को रात कर गया…..!!
=-=-=-=-=
मुझे देख कर तेरी हैरानी लाज़मी है…..
इस दौर में इंसान कम ही मिला करते हैं…!!
=-=-=-=-=
है तमन्ना फिर, मुझे वो प्यार पाने की…….
दिल है पाक मेरा , ना कोशिश कर आज़माने की …!!
=-=-=-=-=
तेरी इस बेवफ़ाई पे फिदा होती है जान मेरी….
खुदा ही जाने… अगर तुझमें
वफ़ा होती तो क्या होता…!!
=-=-=-=-=
वो कतरा बनके हुए आपे से बाहर …
मैँ दरिया होकर भी अपनी औकात मेँ हूँ”
=-=-=-=-=
हुनर-ओ-इश्क अब सीख कर आया हूँ………
चलो फिर से खेल दिल का खेलते है…..!!
=-=-=-=-=
खुदा भी अब मुझसे बहुत परेशान है……
रोज़ रोज़ जब से दुआ में तुझे मांगने लगा हूँ….!!
=-=-=-=-=
तुम बहुत दिल-नशीन थे मगर…….
जब से किसी और के हो गए हो….ज़हर लगते हो…..!!
=-=-=-=-=
इस कदर शिद्दत से चाहा था मैने उसको यारो…….
अगर दुश्मन भी होता तो निभाता उम्रभर……!!
=-=-=-=-=
न जाने क्यूं हमें इस दम तुम्हारी याद आती है……
जब आंखों में चमकते हैं सितारे शाम से पहले…!!
=-=-=-=-=
खेल रहा हूँ इसी उम्मीद पे मुहब्बत की बाजी…….
कि एक दिन जीत लेंगे उन्हें, सब कुछ हार के अपना….!!
=-=-=-=-=
लगता है इस बार मुझे मोहब्बत होकर ही रहेगी,
आज रात ख्वाब में मैंने खुद को बरबाद होते देखा है….
=-=-=-=-=
हम भी अक़्सर इन फूलो  कि तरह तन्हा रहते हैँ..
कभी ख़ुद टूट जाते है, कभी लोग हमे तोड़ जाते है..
=-=-=-=-=
ऊँची इमारतों में छुप गया मकान मेरा……..
कुछ लोग मेरे नसीब का…
सूरज भी ले गए….
=-=-=-=-=
ख्वाइश बस इतनी सी है की तुम मेरे लफ़्ज़ों को समझो….
आरज़ू ये नही की लोग वाह वाह करें..
=-=-=-=-=
वोह भी
बेवफ़ा निकले,
औरों की तरहा..
सोचा था की उनसे
ज़माने की बेवफ़ाई का गीला करेंगे..!!
=-=-=-=-=
ईस राह-ऐ-मुहब्बत की बस बात ना पूछिये..
अनमोल जो ईंनसान थे, बे-मोल बीक गये.!
=-=-=-=-=
तेरी तलाश में निकलू भी तो क्या फायदा…
तुम बदल गए हो…
खो गए होते तो और बात थी….
=-=-=-=-=
tasavur main zaroor aoo,magar tairna to seekho …
tum aksar doob jatay ho mere ashkoon k pani main …
=-=-=-=-=
karo phir se koi wadda ,kabhi na phir bichhadne ka ….
tumhein kaya faraq padta hai chalo phir se mukkar jana …
=-=-=-=-=
Mere Liye Na Sahi In K Liye aa Jao,,,,,,,
“Tum Se Bepanah Mohabat Karti Hain Ye AAnkhen……….!!
=-=-=-=-=
Tumhare jane k baad kaun rokta humein……….!!
So jee bhar k khud ko barbaad kya..!!
=-=-=-=-=
Tumhare sath dekhi thi warna zindagi mujhko
na tab mehsoos hoti thi na ab mehsoos hoti hai…
=-=-=-=-=
Na karo takraar, mujhe tumhara hi khayaal hai,
Phir baat se baat nikle gi, aur tum rooth jaoge..!!
=-=-=-=-=
Auron se to umeed ka rishta bhi nahi tha….
Tum itne badal jao gay socha bi nai tha…..
=-=-=-=-=
Nazar bacha ke guzarna hai to guzar jao,
Main aaina hoon meri apni zimmedari hai. . !!
=-=-=-=-=
Zuban khamosh hai lekin meri aankhon mein likkha hai !
Ki haal-e-dil padha jaata hai, batlaaya nahi jaata !!
=-=-=-=-=
Ek Hum Hain Jo Tere Baad Naa Jee Paaye’n Ge
Aik Tum Ho Ke Naya Ishq Karo Ge, Kal Se….!!!
=-=-=-=-=
Muskurana Toh Meri Shaksiyat Ka Ek Hissa Hai E Dost…
Tum Mujhe Khush Samajhkar Duaon Mein Bhool Mat Jaana…
=-=-=-=-=
Tere ehsas ne hume aisa nasha diya…
ab sharab se narfat see hogayee…
=-=-=-=-=
Juda Ho Kr Bhi Dono Jee Rahe Hein ek Muddat Se
Kabhi Dono Hi Kehte The Judai Maar DaLe Gi..
=-=-=-=-=
Bohat Mushkil Ho Gaya Hai Khud Ko Sambhal Rakhna,
Magar Woh Keh Gayaa Hai “Apna” Khaiyal Rakhna
=-=-=-=-=
इश्क़ और तबियत का कोई भरोसा नहीं,
मिजाज़ से दोनों ही दगाबाज़ है, जनाब।
=-=-=-=-=
“हमें तो प्यार के दो लफ्ज ही नसीब नहीं,,
और बदनाम ऐसे जैसे इश्क के बादशाह थे हम”!!
=-=-=-=-=
मोहब्बत कब हो जाए किसे पता..
हादसे पूछ के नही हुआ करते …
=-=-=-=-=
सब कुछ किया पर नाम ना हुआ,
महोबत क्यां करली बदनाम हो गए।
=-=-=-=-=
उसकी आँखों में नज़र आता है सारा जहां मुझ को;
अफ़सोस कि उन आँखों में कभी खुद को नहीं देखा।
=-=-=-=-=
उसने मुज से पुछा..मेरे बिना रह लोगे..??
सांस रुक गई..और उन्हें लगा..हम सोच रहे है..
=-=-=-=-=
दावे मोहब्बत के मुझे नहीं आते यारो ..
एक जान है जब दिल चाहे मांग लेना ..
=-=-=-=-=
Tum Mohabbat bhi Maosam Ki Tarha Nibhate Ho,
Kabhi baraste Ho Kabhi ek boond Ko Tarsate Ho,
=-=-=-=-=
Mayoos Ho Gaya Hun Mai Zindagi Ke Is Safar Se,
Maqsad Ki Muhabat Aur Matlab Ki Dosti Se….!
=-=-=-=-=
Ajeeb halat hote hain is Muhabbat mein Dil ke ,
Udaas jab bhi Yaar ho Qasoor apna lagta hai…
=-=-=-=-=
Hum Ko Maloom Nahin Chahat Ke Taqaze Lekin ,
Hum Ne Teri Baaton Ke Siwa Har Baat Bhula Rakhi Hai
=-=-=-=-=
Dal de apni duaon ke kuchh alfaz meri jholi me,
Kya pata tere lab hile aur meri zindagi sawar jaye..
=-=-=-=-=
Anjaam-e-wafaa ye hai, jisne bhi muhabbat mein..
Marne ki duaa maangi, jeene ki sazaa paai!!!!!
=-=-=-=-=
Woh Rasta Jo Hamain Uske Dil Tak Le Jata
Umar Saari Usi Rastay Ki Talaash Mai Guzri…..
=-=-=-=-=
Koi to hai mere andar mujhe sambhale hue ‘Rakshat’..
Ke be-qaraar sa reh kar bhi bar-qaraar hun main…
=-=-=-=-=
Jo guzaari na ja saki hum se,
Hum ne woh zindagi guzaari hai..
=-=-=-=-=
Jise khud se hi nahin furstain,
Jise khayal apne kamaal ka,
Usey kya khabar mere shoq ki,
Usey kya pata mere haal ka..
=-=-=-=-=
Bohat Khush Qismat Hain wo Log Yaqeen Jano…!!!
Jo Mangty B Nahi, Rotay B Nahi,Or Muhabbat Paa letay
Hain….!!
=-=-=-=-=
Ulfatein, Uljhanein, Ranjishein aur Thakawat,
Bas Yu’n hi ek Din aur Beet Gaya Zindagi Ka . . .
=-=-=-=-=
Baat to hai aam si, per itni aam bhi nahi…………………,
Sub ko khushiyan mil jati hain , mera hissa kho jata hai…
=-=-=-=-=
Sach Kaha Tha Kisine Tanhai Me Jina Sikh . . . . .
Mohabbat Jitani Bhi Sachi Ho Sath Chhod Hi Jati Hai…
=-=-=-=-=
Kamaal ka Tana Diya Kisi Ne Mujhe Aaj,
Agar Woh Tera Hai Toh Tere Paas Kyon Nahin …
=-=-=-=-=
Wajah poochhne ka to mauqa hi na mila bus !!
Woh lehjah badalty gaye aur hum ajnabi hoty gaye…
=-=-=-=-=
Kis k Ho…?
Bus Tumhari Hun,
Tere Ye alfaaz..
Kitny Pyare hain..
=-=-=-=-=
Mere Jism Se Uski Khushbu Aaj Bhi Aati He…
Main Ne Fursat Mein Kabhi Seeny Se Lagaya Tha Usay..
=-=-=-=-=
Aakhir Kaise Bhula De Hum Unhein…!!
Maut Insano Ko Aati Hai’ Yaadon ko Nahi…!!
=-=-=-=-=
Muhabbat Or Wafa Ki Sada Se Dushmani Hai…………..,
Na Wafa Se Mohabbat Milte Hai Na Mohabbat Se Wafa…
=-=-=-=-=
Koi Nahi Yaad Karta Wafa Karne Waley Ko….!!
Meri Maano Bewafa Ho Jaao’ Zamana Yaad Rakhega…!!
=-=-=-=-=
Saari dunyia badal gayee janaa
Tere taiwar magar nahi badley..
=-=-=-=-=
Haan main tumhe bhula na saka..
kabhi dil ne ijazat he na di….
=-=-=-=-=
Log Shameel The Aur Bhi Laikin..
Dil Teri Kosishoon Se Toota Hai…
=-=-=-=-=
Koshish o Ke Bawajood b Jo Mukammal Na Ho Saken,
Tera Naam Bhi Unhin Khwahishon Mein Hai…..
=-=-=-=-=
Hum Ne Khud Me Tumko Peroya Hai Ek Tasbeeh Ki Tarha..
Agar Hum Toot gaye To Bikhar Tum Bhi Jao Ge…
=-=-=-=-=
Tere Bin Kuch Be-Chain Sa Rehne Laga Hun,
Kambakht Ashk Bhi Tujhse Milne Nikal Parte Hain..
=-=-=-=-=
Bataaon tumhe kahaani udaas logon ki,?
Kabhi ghaur karna yeh hanstey bohat hain..
=-=-=-=-=
Muhabat Jeet Jayegi……….. Agar Tum Maan Jao To,
Mere Dil Main Tumhi Tum Ho Yeh Akhir Jan Jao To…
=-=-=-=-=
KHushk tinkon se ghar bana rahe ho”…
Ye jante bhi ho mizaaj-e-Yaar AAG jesa hai…
=-=-=-=-=
Woh Jo Bichra Tu Main Ne Jana
Log Mar Kar Bi Jiya Kartey Hai’n..!!
=-=-=-=-=
Youn Bhi To Raaz Khul Hi JaayeGa Ek Din Humari Mohabbat
Ka…!!
Mehfil Mein Jo Hum Ko Chorr Kar Sab Ko Salaam Karte Ho…!!
=-=-=-=-=
Tere Ishq Se Mili Hai Mere Wajood Ko Ye Shohrat…!
Mera Jikr Hi Kaha Tha Teri Daastan Se Pehle…
=-=-=-=-=
naraaz kyu hote ho chale jayenge teri mehfil se
muje mere dil ke tukde to uthane to do…
=-=-=-=-=
Be wafaa wakt thaa..
Tum thy…
ya Muqaddar meraa
baat itni hy k anjaam Judaai niklaaa.
=-=-=-=-=
वादा निभाया ना जाए
तो वादा किया
ना कर,
इस खेल में
वादे नही दिल
टूटा करते हैं…
=-=-=-=-=
दिल वो नगर
नहीं है कि
फिर आबाद हो
सके,
पछताओगे सुन लो
सजन ये बस्ती
उजाड़ के…
=-=-=-=-=
मिलना था इत्तफाक,
बिछड़ना नसीब था,
वो इतनी दूर
हो गया जितना
करीब था…
=-=-=-=-=
कितने सुलझे हुए तरीके
से,
मुझको उलझन में
डाल जाते हो
तुम…
=-=-=-=-=
किन लम्हों को भूलूं
किन्हे याद रखूं
ये सोचता हूं
अक्सर,
गर कुछ लम्हों
ने सब कुछ
दिया तो कुछ
ने सब ले
भी लिया…
=-=-=-=-=
तुम किसी और
से इश्क कर
लो,
हमें अमीर होने
में ज़रा वक़्त
लगेगा…
=-=-=-=-=
आजकल सब कहते
हैं मैं बुझा-बुझा सा
रहता हूँ,
अगर जलता रहता
तो कब का
खाक हो जाता..
=-=-=-=-=
हर ज़ुल्म तेरा याद
है भूला तो
नहीं हूँ,
ऐ वादा फरामोश
मैं तुझ सा
तो नहीं हूँ..
=-=-=-=-=
मुझे ना ढूंढ
ज़मीन-ओ-आसमां
की गर्दिशों में,
मैं अगर तेरे
दिल में नहीं
तो कहीं भी
नहीं…
=-=-=-=-=
किसे मालूम था इश्क
इस क़दर लाचार
करता है,
दिल उसे जानता
है बेवफा मगर
प्यार करता है…
=-=-=-=-=
उस शक्स में
बात ही कुछ
ऐसी थी..
हम अगर दिल
न देते तो
जान चली जाती
=-=-=-=-=
वो जान गयी
थी ,हमे दर्द
में मुस्कराने की
आदत हैं
वो रोज नया
जख्म देती थी
मेरी ख़ुशी के
लिए
=-=-=-=-=
ये जो मेरे
दामन पर कजरारे
छींटें हैं थोड़े-बहुत
झाँक के देखो,तेरे गिरेबाँ
से धूल कुछ
उडी लगती है
=-=-=-=-=
जुर्म में हम
कमी करें भी
तो क्यों …?
तुम सजा भी
तो कम नहीं
करते ….!
=-=-=-=-=
दिल गया तो
कोई आँखे भी
ले जाता

फकत एक ही
तस्वीर कहाँ तक
देंखू

Search Terms : Hindi Sad Shayari, Tanhai Shayari, Judai Shayari, Bewafai Shayari, Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Udaas Shayari, Dard Bhari Shayari, Sad Shayari In Hindi Font, Shayari In Text, Loneliness  Shayari, 2 Lines Shayari, Hindi Shayari Collection, Heart Touching Shayari
loading...
Loading...
Hindi Shayari Dil Se © 2015