Hindi Shayari Dil Se

Hindi Shayari Pictures, Love Shayari, Romantic Shayari, Pyar Shayari, Mohabbat Shayari, Dosti Shayari, Sad Shayari, Dardbhari Shayari, Bewafai, Tanhai, Judai, Yaadein Shayari, Suvichar Shayari

loading...

Toote Dil Ki Shayari

Top 50 Best 2 Lines Sad Hindi Sher O Shayari – Very Sad Heart Touching Love Poetry In Two Lines

Advertisements

 

Most Heart Touching Romantic Sad Love Shayari in 2 Lines Wallpaper

Eik Main Hoon Kay Lehroon Ki Tarhan Chain Nahi Hai,
Aik Woh Hai K Khamosh Samandar Ki Tarhan Hai:(

=-=-=-=-=

Aur Bhi Kar Deta Hai Dard Main Izafa,
Tery Hoty Huay Ghairo’N Ka Dilasa Dena .

=-=-=-=-=

Tapak Partay Hain Aansoo Jab Tumhari Yaad Aati Hai,
Ye Wo Barsaat Hai Jis Ka Koi Mosam Nahi Hota

=-=-=-=-=

Us Ne Mere Zhakhmo Ka U Kiya Ilaj
Marham Bhi Lagaya To Kaanto Ki Nok Se

=-=-=-=-=

Jo Tum Bolo Bikhar Jayein, Jo Tum Chaho Sanwar Jayein
Magar Yoon Tootna Jurnaa Buhat Takleef Deta Hai

=-=-=-=-=

Bari Tabdeeliyaan Laai Hain Apne Aap Main Likin
Tumhain Bas Yaad Krne Ki Wo Adat Ab Bhi Baqi Hai

=-=-=-=-=

Uski Awaz Sun Lou’N Tu Mil Jata Hy Soko’N Dill Ko.
Dekho Tu Sahi Merey Dard Ka Elaaj Kaisa Hy.

=-=-=-=-=

Ache Lage Tum So Hum Ne Bata Diya
Nuqsan Yeh Hua K Tum Maghroor Hogay.

=-=-=-=-=

Wo Tha To Kahin Waqt Thehrta Hi Na Tha
Ab Waqt Guzrny Mein Bohat Waqt Lagta He

=-=-=-=-=

Baithe The Apni Masti Mein, Ke Achaanak Tadap Utthe
Aa Ke Tere Khayaal Ne Accha Nahi Kiya

=-=-=-=-=

(more…)

Advertisements

Top 50 Best Barsaat Sad And Romantic Hindi Love Shayari For Your Lover – Girlfriend or Boyfriend

Loading...

Best Barsaat Shayari Collection

Ab Kon Se Mausam Se Koi Aas Lagaye
Barsaat Mein Bhi Yaad Na Jab Un Ko Hum Aye..

=-=-=-=-=

Mera Shahar To Baarishon Ka Ghar Thehra
Yahan Ki Aankh Ho Ya Dil, Bahot Barasti Hain

=-=-=-=-=

Kabhi Ji Bhar Ke Barasna, Kabhi Bond Bond Ke Liye Tarasna,
Ay Barish Teri Aadatein Mere Yaar Jesi Hain…!

=-=-=-=-=

Kabhi Shokh Hein
Kabhi Gum Si Hein.. Ye Baarishen Bhi.. Tum Si Hein.

=-=-=-=-=

Rim jhim rim jhim baras rahi hai,
Yaad tumhaari qatraa – qatraa

=-=-=-=-=

Very Sad Barsaat Shayari

Mujhe maar hi na dale in badlon ki sazish,
Ye jb se baras rahe hain tum yaad aa rhe ho.

=-=-=-=-=

Is barish k mausam me ajeeb si kashish h
Na chahte hue bhi koi shidat se yaad aata hai.

=-=-=-=-=

Is dafa tow barishain rukti hi nahin Faraz !
Hum ne kya aansu piye k saray mausam ro paray!

=-=-=-=-=

Main Tere hijar Ki Barsaat Main Kab Tak Bheegon …!!
Aise Mosam Main To Deewarain Bhi Gir Jati Hain…!!!!

=-=-=-=-=

Khyalon mein wahi, sapno mein wahi,
Lekin unki yaadon mein hum the hi nahi,
Hum jaagte rahe duniya soti rahi,
Ek baarish hi thi, jo humare sath roti rahi.

=-=-=-=-=

Sad Shayri Pictures on barish rain barsaat

Ishq wale ankhon ki baat samajh lete hain,
Sapno mein mil jaye to mulaqat samajh lete hain.
Rota to asman bhi hain apne Bichde pyar ke liye,
Par log use barsat samajh lete hain.

=-=-=-=-=

Itni Shidat Se To Barsaat Be Kam Kam Barsay
Jis Traha Ankh Teri Yaad Main Cham Cham Barsay
Minatien Kon Kary Aik Gharondy Ke Lye
Kah Do Baadal Se Barasta Hai To Jam Jam Barsay

=-=-=-=-=

Agar Bhigne Ka Itna Hi Shaukh Hai Baarish Me,
To Dekho Meri Aankho Me,
Baarish To Har Ek Ke Liye Barasti Hai,
Lekin Ye Aankhe Sirf Tumhare Liye Barasti Hai..

=-=-=-=-=

Aaj Halki Halki Baarish Hay,
Aaj Sard Hawa Ka Raqs Bhi Hay,
Aaj Phool Bhi Nikhray Nikhray Hain,
Aaj Un Main Tumhara Aks Bhi Hay

=-=-=-=-=

Aye barish zara tham ke baras,
Jab mera yaar aa jaye to jam ke baras,
Pehle na baras ki woh aa na sake,
Phir itna baras ki woh ja na sake.

=-=-=-=-=

Sad Barsaat Shayari When Remembering Boyfriend

Mausam hai barish ka aur yaad tumhari aati hai,
Barish ke har qatre se awaz tumhari aati hai.

Badal jab garajte hain, dil ki dharkan badh jati hai,
Dil ki har ek dharkan se awaz tumhari aati hai.

=-=-=-=-=

Kuch Nasha To Aapki Baat Ka Hai
Kuch Nasha To Dheemi Barsaat Ka Hai
Humein Aap Yun Hi Sharabi Na Kahiye
Is Dil Par Asar To Aap Se Mulakat Ka Hai.

=-=-=-=-=

Tumhe pehli barish psnd hai or mujhe barish me tum
Tumhe hsna pasand hai mujhe hstey huye tum,
Tumhe humse bat krna psnd h, mujhe bolte hue tum
Tumhe sab kuchh pasand hain or mujhe bas tum…

=-=-=-=-=

Mausam tha beqarar tumhein sochate rahe
Kul raat bar bar tumhein sochate rahe
Baarish hui to lag kar ghar ke dareeche se hum
Chup chap beqarar tumhein sochate rahe.

=-=-=-=-=

Barish Ke Paani Ko Apne Haathon Mein Samet Lo.
Jitna Aap Samet Paaye Utna Aap Humein Chahte Hai
Aur Jitna Na Samet Paye Utna Hum Aap Ko Chahte Hai.

=-=-=-=-=

Dard Bhari Hindi Shayari With Pictures

Ek Raat Hui Barsaat Bahut
Main Roya Saari Raat Bahut
Har Gham Tha Zamaane Ka Lekin
Main Tanha Tha Us Raat Bahut
Phir Aankh Se Ek Saawan Barsa
Jab Sehar Hui To Khyal Aaya
Woh Baadal Kitna Tanha Tha
Jo Barsa Saari Raat Bahut

=-=-=-=-=

Kitni jaldi yeh mulakat guzar jati hai,
pyaas bujhti bhi nahi barsaat guzar jate hai,
apni yadoon se kahoo yun na aaya karain
neend aati bhi nahi raat guzar jati hai…!!!

=-=-=-=-=

Baarish Ki Bondon Mein Jhalakti Hai Us Ki Tasveer
Aaj Phir Bheeg Bethe Usse Pane Ki Chahat Mein

=-=-=-=-=

Rehne Do Ab Ke Tum Bhi Mujhey Parh Na Sako Ge
Barsaat Mein Kaaghaz Ki Tarah Bheeg Gaya Hon

=-=-=-=-=

Baarishain ho hi jaati hain mere shaher mein
Faraz
Kabhi badalon se to kabhi aankho se….!!

=-=-=-=-=

Barish Par Dard Bhari Sher O Shayari With Wallpapers

Maza Barsat Ka Chaho To In Aankhon Mein Aa Baitho
Wo Barson Mein Kabhi Barsen, Yeh Barson Se Barasti Hain

=-=-=-=-=

Bad-Naseebi Ka Main Qaa’il To Nahin Hoon, Lekin
Main Ne Barsaat Mein Jalte Hue Ghar Dekhe Hain

=-=-=-=-=

Mere Hisse Ki Zameen Banjar Thi, Main Waaqif Na Thaa
Be-Sabab Ilzaam Main Detaa Rahaa Barsaat Ko

=-=-=-=-=

Barsaat Mein Deewaar-O-Dar Ki Saari Tehreeren Mitin
Mitata Nahin Dhoyaa Bahut Taqdeer Ka Likha Huwaa

=-=-=-=-=

Barish!
Too Na aaya Ker
Kay Tere Aanay Say
Aur Janay Kay baad Bhi
Koi
Buhat Dair Tak udass rahtaa Hay!!!!

=-=-=-=-=

Latest Barsaat Shayari With Wallpapers

Ye husn-e mosam, ye barish, ye hawayein,
Lgta hai mohabbat ne aaj kisi ka sath diya hai

=-=-=-=-=

Rota Aasman, Mayoos Parinde or Teri Yadon Ke Silsily,
Uff! Ye Barish Kabhi Tanha Kyun Nahi Aati…!

=-=-=-=-=

Theharta Ek Bhi Manzar Nahi Veeran Ankho Mein,
Humare Shehar Se Badal Bhi Bin Barse Nikalta Hai…

=-=-=-=-=

Kai Rog Dey Gai Hai Naye Mausmon Ki Barish
Mujhay Yaad Aa Rahay Hain Mujhay Bhool Janay Walay.

=-=-=-=-=

In barishon se adab-e-mohobbat seekho faraz,
Agar yeh ruth bhi jayein to barasti bohot hain.

=-=-=-=-=

Romantic Love Hindi Poetry - Barish Shayari - Couple In Rain

Kash meri zindegi mein aaye ek aisi barsaat
Mere hath mein ho tera hath
Bheegte rahein hum saari raat
Honth rahe khamosh
Bas aankhon se ho teri meri baat

=-=-=-=-=

Ab ke sawan main paani barsa bohat
Paani ki har boond main woh aaye yaad bohat
Is suhaane mausam main saath nahi tha koi
Baadlon ke saath in aankhon se paani baha bohat

=-=-=-=-=

Aaj phir teri yaad aayi barish ko dekh kar
Dil pe zor na raha apni bebasi ko dekh kar
Roye is qadar teri yaad me
Kay barish bi thum gai meri Ashqo ki barish dekh kar

=-=-=-=-=

Barsat Ki Bheegi Raaton Mein Phir Koi Suhaani Yaad Aayi,
Kuchh Apna Zamaana Yaad Aaya Kuchh Unki Jawaani Yaad Aayi,
Hum Bhool Chuke They Jisne Hamein Duniya Mein Akela Chhor Diya,
Jab Ghaur Kiya To Ek Soorat Jaani Pehchaani Yaad Aayi

=-=-=-=-=

Chandni Se Chamakti Is Raat Main,
Ek Khushboo Si Hai Har Baat Main,
Paas Aake Bhi Kyon Hain Duriya,
Koi Pyasa Hai Kyon Barsat Main.

=-=-=-=-=

Heart Touching Barsaat Shayari With Image

Saawan aaya’
Baadal chhaye’
Bulbul chehki’
Phool khiley,
.
.
Tum he nahi jab Barsaaton mein,
Aag lagay Barsaton ko …

=-=-=-=-=

Kisne bheege hue baalon se ye jhatkaa pani,
Jhoom ke aayi ghata toot ke barasa pani.

Koi matawali ghata peeke jawani ki umang,
Dil baha le gaya barsat ka pehala pani.

=-=-=-=-=

Aaj barish me tumhare sang nahana hai,
Sapna ye mera kitna suhana hai,
Barish ke katre jo tere honthon pe gire,
Un katron ko apne honton se uthana hai.

=-=-=-=-=

Kahin Barish Baras Jaaye
Kahin Darya Taras Jaaye
Kahin Aa Kar Ghata Theray
Tumhare Or Mere Darmiyaa
Aaa Kar KHUDA Therey..
Tou ………!!!
Uss Lamhay Mere Jivan Main..
Tum KHUDA Ke Baad Aatey Ho..
Mujey Tum Yaad Aatey Ho

=-=-=-=-=

Jab Gulab Kahin Pe Khilta Hai,
Jab Mausam Rang Badalta Hai,
Jab Badal Khoob Barasta Hai,
Jab Hawa Se Khushbu Aati Hai,
Jab Chandni Bhi Sharmati Hai,
Tab Yaad Tumhari Aati Hai.. !!

=-=-=-=-=

Hindi Ghazal Lyrics shayari On Barsaat Rain Barish wallpaper

Aadat Uski Thi Bus Mujhe Jalane Wale
Baat Ki Hans Ke Mgr Dil Ko Dukhane Wali
Ajkal Wo Mujhe Kuch Badla Howa Lgta Hy
Ho Gain Uski Nighein Bhi Zamane Wali
Hum Ne Ikhlas Ka Daman Nhi Chhora Ab Tk
Haye Uski Tu Muhabbat Hy Rulane Wali
Main Ne Samjha Tha Guzar Jaye Ga Mausam Lekin
Rut – E – Barsat Bi Nikli Tu Satane Wali
Tumhare Waste Ab Koi Nhi Hy WASI
Khud Se Batein Na Karo Dil Ko Behlane Wali…

=-=-=-=-=

Kal halki halki barish thi,
Kal sard hawa ka raqs bhi tha.

Kal phool bhi nikhre nikhre the
Kal un pe aap ka aks bhi tha..

Kal badal kaley gehre the,
Kal chand pay lakhon pahre the

Kuch tukray aap ki yaad ke,
Bari der se dil me thehre the..

Kal yaadein uljhi uljhi thi,
Aur kal tak yeh na suljhi thi..

Kal yaad bohut tum aye the,
Kal yaad bohut tum aye the..

=-=-=-=-=

Gham ki baarish ne bhi tere naqsh ko dhoya nahi,
Tu ne mujh ko kho diya, main ne tujhe khoya nahi.

Neend ka halka gulaabi sa khumaar ankhon mein tha,
Yun laga jaise woh shab ko der tak soya nahi tha.

=-=-=-=-=

Yeh barishein bhi tum si hain,
Jo baras gayi to bahar hain,
Jo thehar gayi to qarar hain,
Kabhie aa gayi yun hi besabab,
Kabhie chha gayi yun hi Roz o Shab
Kabhie shor hain, Kabhie chup si hain,
Kissi Yaad mayn kissi Raat ko,
Yeh barishein bhi tum si hain,
Ek dabi hui si raakh ko,
Kabhie yun huwa ka bujha dia,
Kabhie khud se khud ko jala dia,
Kahin boond boond mein gum si hain.

Yeh barishein bhi tum si hain

=-=-=-=-=

Yaadein jaag jati hain,
Barishon ke mausam mein.
Har ghari satati hain
Barishon ke mausam mein.
Shaam bhi kisi surat,
Chain se nahin kat-ti
Subahein bhi satati hain
Barishon ke mausam mein.
Zehen ke jharokhe mein
Jab koi sada ubhre.
Aankhein bheeg jati hain
Barishon ke mausam mein.

Search Terms :

Top 50 Barsaat Shayari, Barsaat Shayari In Hindi, Best Shayari On Barsaat, Barsaat Shayari In 4 Lines, Barsaat Shayari In 2 Lines Ghazal Shayari Lyrics On Barsaat, Sad Barsaat Shayari, Romantic Barsaat Shayari, Hindi Poetry On Barsaat, Sher O Shayari On Barsaat, Urdu Shayari On Barsaat, Top 50 Barish Shayari, Barish Shayari In Hindi, Best Shayari On Barish, Barish Shayari In 4 Lines, Barish Shayari In 2 Lines Ghazal Shayari Lyrics On Barish, Sad Barish Shayari, Romantic Barish Shayari, Hindi Poetry On Barish, Sher O Shayari On Barish, Urdu Shayari On Barish, Top 50 Rain Shayari, Rain Shayari In Hindi, Best Shayari On Rain, Rain Shayari In 4 Lines, Rain Shayari In 2 Lines Ghazal Shayari Lyrics On Rain, Sad Rain Shayari, Romantic Rain Shayari, Hindi Poetry On Rain, Sher O Shayari On Rain, Urdu Shayari On Rain, Top 50 Sawan Shayari, Sawan Shayari In Hindi, Best Shayari On Sawan, Sawan Shayari In 4 Lines, Sawan Shayari In 2 Lines Ghazal Shayari Lyrics On Sawan, Sad Sawan Shayari, Romantic Sawan Shayari, Hindi Poetry On Sawan, Sher O Shayari On Sawan, Urdu Shayari On Sawan, Barsat Shayri, Baarish Syari, Barsaat Sher O Shayari, बरसात हिंदी शायरी, बारिश शेर ओ शायरी, शायरी बरसात पर, सावन पर रोमांटिक शायरी, दर्द भरी बरसात शायरी, सावन में प्रेमी को याद करते हुए शायरी, शायरी बरसात के मौसम पर, प्यार शायरी बारिश में, बरसात में लव शायरी

Advertisements

Sad Shayari in Hindi – Part-5 (Broken Heart Shayari, Toote Dil Ki Shayari, Dard Bhari Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)

Huge Collection Of Sad Shayari - Dard Shayari, Akelapan, Mayusi, Khamoshi
Sad Shayari in Hindi – Part-5 
(Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)
तेरे पास भी कम नहीं, मेरे पास भी बहुत हैं,
ये परेशानियाँ आजकल फुरसत में बहुत हैं …………
=-=-=-=-=
मेरे लफ़्ज़ों से न कर मेरे क़िरदार का फ़ैसला।।
तेरा वज़ूद मिट जायेगा मेरी हकीक़त ढूंढ़ते ढूंढ़ते।।
=-=-=-=-=
कितना कुछ जानता होगा वो सख्श मेरे बारे में;
मेरे मुस्कुराने पर भी जिसने पूछ लिया कि तुम
उदास क्यूँ हो ?
=-=-=-=-=
चूम कर कफ़न में लिपटें मेरे चेहरे को, उसने
तड़प के कहा….
.
.
नए कपड़े क्या पहन लिए, हमें देखते
भी नहीं’…
=-=-=-=-=
जाते जाते उसने पलटकर इतना ही कहा मुझसे
मेरी बेवफाई से ही मर जाओगे या मार के जाऊँ”
=-=-=-=-=

जुल्फों को फैला कर जब कोई महबूबा किसी आशिक की कब्र पर रोती है …
तब महसूस होता है कि मौत भी कितनी हसीं होती हे….
=-=-=-=-=
तेरी मुहब्बत भी किराये के घर की तरह
थी…..
कितना भी सजाया पर मेरी नहीं हुई….
=-=-=-=-=
यहाँ हजारों शायर है जो तख़्त बदलने निकले है,
कुछ मेरे जैसे पागल है जो वक़्त बदलने निकले है,…..
=-=-=-=-=
  
नाकाम मोहब्बतें भी बड़े काम की होती हैं
दिल मिले ना मिले नाम मिल जाता है..!
=-=-=-=-=
उनके लिए जब हमने भटकना छोड़ दिया,
याद में उनकी जब तड़पना छोड़ दिया,
वो रोये बहुत आकर तब हमारे पास,
जब हमारे दिल ने धडकना छोड़ दिया.
=-=-=-=-=
” कितनी झुठी होती है, मोहब्बत की कस्मेँ….।”
देखो तुम भी जिन्दा हो, मैँ भी जिन्दा हूँ….॥
=-=-=-=-=
वो शायद मतलब से मिलते हैं,
मुझे तो मिलने से मतलब है.!
=-=-=-=-=
=-=-=-=-=
तुमने कहा था आँख भर के देख लिया करो मुझे,
मगर अब आँख भर आती है तुम नजर नही आते हो।
=-=-=-=-=
उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा ???
दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है !!!
=-=-=-=-=
हाथ ज़ख़्मी हुए तो कुछ अपनी ही खता थी…..
लकीरों को मिटाना चाहा किसी को पाने की खातिर….!!
=-=-=-=-=
वो इस तरह मुस्कुरा रहे थे , जैसे कोई गम छुपा रहे थे !!
बारिश में भीग के आये थे मिलने , शायद वो आंसु छुपा रहे थे !
=-=-=-=-=
आज उसकी एक बात ने मुझे मेरी गलती की यूँ सजा दी…
छोड़ कर जाते हुए कह गई,
जब दर्द बर्दाश्त नहीं होता तो मुझ से मोहब्बत क्यूँ की….!!!!
=-=-=-=-=
उसके साथ जीने का इक मौका दे दे, ऐ खुदा..
तेरे साथ तो हम मरने के बाद भी रह लेंगे..
=-=-=-=-=
उठाये जो हाथ उन्हें मांगने के लिए,
किस्मत ने कहा, अपनी औकात में रहो।
=-=-=-=-=
जब से बाजी, वफा की हारे हैं.
दोस्तों, हम भी गम के मारे हैं.
तुम हमारे सिवा, सभी के हो,
हम किसी के नहीं, तुम्हारे हैं.
=-=-=-=-=
  
मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदलकर देख,
मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकलकर देख…!
=-=-=-=-=
तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा था
खबर तो रहती….सफर तय कितना करना है
=-=-=-=-=
जुबां खुली पर कुछ कह न पाए , आँखों से चाहत जता रहे थे !
सुबह की चाहत लिए नज़र में , रात नज़र में बिता रहे थे !!
=-=-=-=-=
मुझे दफनाने से पहले मेरा दिल निकाल कर उसे दे देना…
मैं नही चाहता के वो खेलना छोङ दे…!!
=-=-=-=-=
किसी ने ग़ालिब से कहा
सुना है जो शराब पीते हैं उनकी दुआ कुबूल नहीं होती ….
ग़ालिब बोले: “जिन्हें शराब मिल जाए उन्हें किसी दुआ की ज़रूरत नहीं होती”
=-=-=-=-=
जो भी आता है एक नयी चोट दे के चला जाता है ए दोस्त,….
मै मज़बूत बहोत हु लेकिन कोई पत्थर तो नहीं,….
=-=-=-=-=
वो अपनी ज़िंदगी में हुआ मशरूफ इतना;
वो किस-किस को भूल गया उसे यह भी याद नहीं।
=-=-=-=-=
याद आयेगी हमारी तो बीते कल को पलट लेना..
यूँ ही किसी पन्ने में मुस्कुराते हुए मिल जायेंगे ..!!
=-=-=-=-=
पथ्थर समझ के हमें मत ठुकराओ ,
कल हम मंदिर में भी हो सकते हैं ।
=-=-=-=-=
“युं तो गलत नही होते अंदाज चहेरों के…
लेकिन लोग…
वैसे भी नहीं होते जैसे नजर आते है..!!”
=-=-=-=-=
दिल में है जो बात किसी भी तरह कह डालिए
ज़िन्दगी ही ना बीत जाए कहीं बताने मे ….
=-=-=-=-=
जिस्म का दिल से अगर वास्ता नहीं होता !
क़सम खुदा की कोई हादसा नहीं होता !
वे लोग जायें कहाँ बोलिये खड़े हैं जो ,
उस हद के बाद जहाँ रास्ता नहीं होता !
=-=-=-=-=
जुबां पे झूंट जब आया उसे मैंने दबा दिया,
कहा फिर भी नहीं की तू मुझे छोड़ चुकी हे तु
=-=-=-=-=
रोज़ रोते हुए कहती है ये ज़िंदगी मुझसे
सिर्फ एक शख्स कि खातिर मुझे बर्बाद मत कर ….
=-=-=-=-=
ए दिल अब तो होश मैं आ…..
यहाँ तुझे कोई अपना कहता ही नहीं….
और तू है की खामख्वा किसी का बनने पे तुला है…..
=-=-=-=-=
किसी को मिल गया मौका, बुलन्दियों को छूने का,
मेरा नाकाम होना भी किसी के काम तो आया।
=-=-=-=-=
तु हजार बार भी रूठे तो मना लुगाँ तझे,
मगर देख, मुहब्बत में शामिल कोई दुसरा न हो।।
=-=-=-=-=
मौम के पास कभी आग को लाकर देखूँ,
सोचता हूँ के तुझे हाथ लगा कर देखूँ……
=-=-=-=-=
दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है,
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगा कर देखूँ….
=-=-=-=-=
चाँद उतरा था हमारे आँगन में,
ये सितारों को गवाँरा ना हुआ,
हम भी सितारों से क्या गिला करें,
जब चाँद ही हमारा ना हुआ…!!!
=-=-=-=-=
भीगी आँखों से मुस्कराने में मज़ा और है,
हसते हँसते पलके भीगने में मज़ा और है,
बात कहके तो कोई भी समझलेता है,
पर खामोशी कोई समझे तो मज़ा और है..
=-=-=-=-=
भूल जाना उसे मुश्किल तो नहीं है लेकिन
काम आसान भी हमसे कहाँ होते हैं!
=-=-=-=-=
गुज़र गया वो वक़्त जब तेरी हसरत
थी मुझको,
अब तू खुदा भी बन जाए तो भी तेरा सजदा ना करूँ…
=-=-=-=-=
जिंदगी देने वाले , मरता छोड़ गये,
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये,
जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की,
वो जो साथ चलने वाले, रास्ता मोड़ गये”
=-=-=-=-=
हालात की दलील देकर उन्होनें साथ छोङ़ा , तो हम आहत नहीं हुए ….,
सोचा हमसे ना सही , चलो किसी से तो वफ़ा निभाई उन्होने…
=-=-=-=-=
“ज़िन्दगी ने आज कह दिया है मुझे,
किसी और से प्यार है,
मेरी मौत से पूछो,
अब उसे किस बात का इंतज़ार है.”
=-=-=-=-=
घर से तो निकले थे हम ख़ुशी की ही तलाश में,
किस्मत ने ताउम्र का हमैं मुसाफिर बना दिया।
=-=-=-=-=
उन्हें नफरत हुयी सारे जहाँ से ,
अब नयी दुनिया लाये कहाँ से…!
=-=-=-=-=
तू मेरे जनाज़े को कन्धा मत देना,
कही ज़िन्दा ना हो जाऊँ फिर तेरा सहारा देख कर …
=-=-=-=-=
दीं सदायें जिंदगी ने मैं ही सुन पाया नहीं,
ख्वाब आँखों में बहुत थे कोई बुन पाया नहीं।
=-=-=-=-=
दिल भी एक जिद पर अड़ा है किसी बच्चे की तरह,
या तो सब कुछ ही चाहिए या कुछ भी नही…..
=-=-=-=-=
वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,
अब मैं हुँ किसी और की, ये मुझे बता कर रोई,
पहले कहती थी कि नहीं जी सकती तेरे बिन,
आज फिर से वो बात दोहरा कर रोई…
कैसे कर लुँ उसकी महोब्बत पे शक यारो…!!
वो भरी महफिल में मुझे गले लगा कर रोई…
=-=-=-=-=
“दोस्त ने दोस्त को, दोस्त के लिए रुला दिया,
क्या हुआ जो किसी केलिए उसने हूमें भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे अच्छा हुआ
जो उसने हमे एहसास तो दिला दिया.“
=-=-=-=-=
अगर है दम तो चल डुबा दे मुजको,
समंदर नाकाम रहा, अब तेरी आँखो की बारी..
=-=-=-=-=
जब से पता चला है, की मरने का नाम है ‘जींदगी’;
तब से, कफ़न बांधे कातील को ढूढ़ते हैं!”
=-=-=-=-=
तुम जैसा मुझे… कोण? कब???
कहा?? और कैसे??? मिलेगा ??
सोचो…
बताओ…
वरना मेरे हो जाओ ………………………!!”
=-=-=-=-=
रात सारी तड़पते रहेंगे हम अब ,
आज फिर ख़त तेरे पढ़ लिए शाम को”
=-=-=-=-=
जिंदगी भर के इम्तिहान के बाद …..
वो शख्स
नतीजे में किसी और का निकला ..
=-=-=-=-=
मोहब्बत उसे भी बहुत है मुझसे
जिंदगी सारी इस वहम ने ले ली…
=-=-=-=-=
“बादशाह तो में कहीं का भी बन सकता हूँ
पर तेरे दिल की नगरी में हुकूमत करने
का मज़ा ही कुछ अलग है………”
=-=-=-=-=
नहीं चाहिए कुछ भी तेरी इश्क़ कि दूकान से,
हर चीज में मिलावट है बेवफाई कि..!!!!
=-=-=-=-=
काश तुम मौत होती तो…………. ….
एक दिन मेरी जरूर होती …………… ….‼
=-=-=-=-=
बुला कर तुम ने महफ़िल में हमें ग़ैरों से उठवाया
हमीं ख़ुद उठ गए होते इशारा कर दिया होता…
=-=-=-=-=
तूने हसीन से हसीन चेहरो को उदास किया है….
ए इश्क ….
तू अगर इन्सान होता तो तेरा पहला कातिल मै होता ।
=-=-=-=-=
ना आना लेकर उसे मेरे जनाजे में,
मेरी मोहब्बत की तौहीन होगी,
मैं चार लोगो के कंधे पर हूंगा,
और मेरी जान पैदल होगी.
=-=-=-=-=
 “वो जो हमसे नफरत करते हैं,
हम तो आज भी सिर्फ उन पर मरते हैं,
नफरत है तो क्या हुआ यारो,
कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं।”
=-=-=-=-=
हमारे चले जाने के बाद, ये समुंदर भी पूछेगा तुमसे,
कहा चला गया वो शख्स जो तन्हाई मे आ कर,
बस तुम्हारा ही नाम लिखा करता था…
=-=-=-=-=
ना हम रहे दील लगाने के क़ाबील,
ना दील रहा गम उठाने के क़ाबिल,
लगा उसकी यादों से जो ज़ख़्म दिल पर,
ना छोड़ा उस ने मुस्कुराने के क़ाबील.
=-=-=-=-=
जाते वक़त उसने बड़े गुरुर से कहा था –
तुझ जेसे लाखो मिलेगे.
मैंने मुस्कराकर पूछा : मुझ जेसे कि तलाश ही क्यों ?
=-=-=-=-=
टूटे हुए गिलास में जाम नहीं आता,
इश्क के मरीजों को आराम नहीं आता,
दिल तोड़ने से पहले सोचा तो होता,
टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता ….
=-=-=-=-=
हमें ए दिल कहीं ले चल … बड़ा तेरा करम होगा
हमारे दम से है हर गम …न होंगे हम और ना गम होगा
=-=-=-=-=
बुलबुल बैठा पेड पर मैने सोचा तोता है।
यारा तेरे प्यार मे दिल ये मेरा रोता है।
=-=-=-=-=
कभी ये लगता है अब ख़त्म हो गया सब कुछ
कभी ये लगता है अब तक तो कुछ हुआ भी नहीं
=-=-=-=-=
कुछ लोग मेरी शायरी से सीते हैं अपने जख्म,
कुछ लोगों को मैं चुभता हूँ सुई की नोक के जैसे ।
=-=-=-=-=
एहसान नहीं है जिन्दगी तेरा मुझ पर ,
मैंने हर सांस की यहाँ कीमत दी है।।
=-=-=-=-=
अपनो को दूर होते देखा ,
सपनो को चूर होते देखा !
अरे लोग कहते हैँ की फूल कभी रोते नही ,
हमने फूलोँ को भी तन्हाइयोँ मे रोते देखा !
=-=-=-=-=
सिर्फ एहसास होता है चाहत मे, इकरार नहीं होता.
दिल से दिल मिलते हैं मोह्हबत में इंकार नहीं होता.
ये कब समझोगे मेरे दोस्तों, दिल को लफजों की जरूरत नहीं होती.
ख़ामोशी सबकुछ कह देती है प्यार में इज़हार नहीं होता
=-=-=-=-=
तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है…
जिसका रास्ता बहुत खराब है…
मेरे ज़ख़्म का अंदाज़ा ना लगा…
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है…
=-=-=-=-=
काटो के बदले फूल क्या दोगे…
आँसू के बदले खुशी क्या दोगे…
हम चाहते है आप से उमर भर की दोस्ती…
हमारे इस शायरी का जवाब क्या दोगे?
=-=-=-=-=
वो फिर से लौट आये थे मेरी जिंदगी में’ अपने मतलब के लिये
और हम सोचते रहे की हमारी दुआ में दम था !
=-=-=-=-=
रात क्या ढली कि सितारे चले गये, गैरों से क्या कहें हम जब अपने ही चले गये,
जीत तो सकते थे हम भी इश्क की बाज़ी, पर तुम्हे जितने के लिए हम हारते चले गये….
=-=-=-=-=
तेरा उलज़ा हुआ दामन मेरी अंजुमन तो नहीं,
जो मेरे दिल में है शायद तेरी धड़कन तो नहीं,
यू यकायक मुजे बरसाद की क्यों याद आई,
जो घटा है तेरी आँखों में वो सावन तो नहीं.
=-=-=-=-=
भीगी आँखों से मुस्कराने में मज़ा और है,
हसते हँसते पलके भीगने में मज़ा और है,
बात कहके तो कोई भी समझलेता है,
पर खामोशी कोई समझे तो मज़ा और है..
=-=-=-=-=
ना मुलाक़ात याद रखना, ना पता याद रखना,
बस इतनी सी आरज़ू है, मेरा नाम याद रखना..
=-=-=-=-=
हमारे बाद अब महफ़िल में अफ़साने बयां होंगे
बहारे हमको ढूँढेंगी ना जाने हम कहाँ होंगे
ना हम होंगे ना तुम होंगे और ना ये दिल होगा फिर भी
हज़ारो मंज़िले होंगी हज़ारो कारँवा होंगे
=-=-=-=-=
काश वो नगमे सुनाए ना होते
आज उनको सुनकर ये आँसू आए ना होते
अगर इस तरह भूल जाना ही था
तो इतनी गहराई से दिल्मे समाए ना होते….
=-=-=-=-=
ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे;
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे;
ये मत पूछना किस किस ने
धोखा दिया;
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।
=-=-=-=-=
उतरे जो ज़िन्दगी तेरी गहराइयों में।
महफ़िल में रह के भी रहे तनहाइयों में
इसे दीवानगी नहीं तो और क्या कहें।
प्यार ढुढतेँ रहे परछाईयों मेँ।
=-=-=-=-=
हमने दिल जो वापीस मांगा तो सिर जुका के…
बोले
वो तो टुंट गया युहि खेलते खेलते…….
=-=-=-=-=
मंजीले मुश्किल थी पर हम खोये नहीं…
दर्द था दिल में पर हम रोये नहीं…
कोई नहीं आज हमारा जो पूछे हमसे…
जाग रहे हो किसी के लिए..या किसी के लिये सोये नहीं…
=-=-=-=-=
दिल रोज सजता है, नादान दुल्हन की तरह..!!
गम रोज चले आते हैं, बाराती बनकर..!!
=-=-=-=-=
 ‘तू’ डालता जा साकी शराब मेरे प्यालो में…
जब तक ‘वो’ न निकले मेरे ख्यालों से ।।।
=-=-=-=-=
अजनबी ख्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ
ऐसे जिद्दी हैं परिंदे के उड़ा भी न सकूँ
फूँक डालूँगा किसी रोज ये दिल की दुनिया
ये तेरा खत तो नहीं है कि जला भी न सकूँ
=-=-=-=-=
सुलाके सबको गहरी नींद में …
फिर अकेला क्युं अंधेरा जागता है!!!!!!
=-=-=-=-=
“एक बार उसने कहा था मेरे सिवा किसी से प्यार ना करना,
बस फिर क्या था तबसे मोहब्बत की नजर से हमने खुद को भी नहीं देखा”
=-=-=-=-=
ना नमाज़ आती है मुझे, ना वज़ू आता है,
सज़दा कर लेता हूँ जब सामने तू आती है…
=-=-=-=-=
सोचा था
घर बना कर बैठुंगा सुकून से…
पर घर
की ज़रूरतों ने
मुसाफ़िर बना डाला
!!
=-=-=-=-=
एक घड़ी
ख़रीदकर हाथ मे क्या बाँध
ली,,
वक़्त पीछे
ही पड़ गया मेरे..!!
Search Terms : Hindi Sad Shayari, Tanhai Shayari, Judai Shayari, Bewafai Shayari, Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Udaas Shayari, Dard Bhari Shayari, Sad Shayari In Hindi Font, Shayari In Text, Loneliness  Shayari, 2 Lines Shayari, Hindi Shayari Collection, Heart Touching Shayari, Shayari For Rejected Lovers, Sad Shayri In Hindi, Sad Sher O Shayari, Gum Ki Shayari, Dil Ki Chhu Lene Wali Shayari, Shayari In Hindi Font

Sad Shayari in Hindi – Part-4 (Dard Bhari Shayari, Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)

Sad Shayari - Hindi Text Shayari Collection
Sad Shayari in Hindi – Part-4 
(Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart Shayari, Tanhai, Bewafai, Judai)
उनसे कहना की क़िस्मत पे ईतना नाज ना करे ,
हमने बारिश मैं भी जलते हुए मकान देखें हैं…… !!!!!
=-=-=-=-=
जिसे पूजा था हमने वो खुदा तो न बन सका,
हम ईबादत करते करते फकीर हो गए…!!!
=-=-=-=-=
वो एक रात जला……. तो उसे चिराग कह दिया !!!
हम बरसो से जल रहे है ! कोई तो खिताब दो .!!!
=-=-=-=-=
जलते हुए दिल को और मत जलाना,
रोती हुई आँखों को और मत रुलाना,
आपकी जुदाई में हम पहले से मर चुके है,
मरे हुए इंसान को और मत मारना.
=-=-=-=-=
जरा सी चोट से शीशे की तरह टूट गया ,
दिल तो कमबख्त मेरा मुझसे भी बुजदिल निकला ………
=-=-=-=-=

शायद कोई तराश कर किस्मत संवार दे !
यही सोच कर मैं उम्र भर पत्थर बना रहा !!
=-=-=-=-=
ये भी अच्छा हुआ कि,
कुदरत ने रंगीन नही रखे ये आँसू .
वरना जिसके दामन में गिरते,
वो भी … बदनाम हो जाता …
=-=-=-=-=
आंसुओसे पलके भीगा लेता हूँ याद तेरी आती है तो रो लेता हूँ
सोचा की भुलादु तुझे मगर, हर बार फ़ैसला बदल देता हूँ!
=-=-=-=-=
मैं मर भी जाऊ, तो उसे ख़बर भी ना होने देना ….
मशरूफ़ सा शख्स है, कही उसका वक़्त बर्बाद ना हो जाये …
=-=-=-=-=
एक ही शख्स था मेरे मतलब का दोस्तों
वो शख्स भी मतलबी निकला……!!!”
=-=-=-=-=
झुठ बोलकर तो मैं भी दरिया पार कर जाता,
मगर डूबो दिया मुझे सच बोलने की आदत ने…”
=-=-=-=-=
तुझे हर बात पे मेरी जरूरत पड़ती ,
काश मैं भी कोई झूठ होता ………”
=-=-=-=-=
ऐ मेरा जनाज़ा उठाने वालो, देखना कोई बेवफा पास न हो.
अगर हो तो उस से कहना, आज तो खुशी का मौका है, उदास न हो.
=-=-=-=-=
अंधेरे मे रास्ता बनाना मुश्किल होता है,
तूफान मे दीपक जलना मुश्किल होता है,
दोस्ती करना गुनाह नही,
इसे आखिरी सांस तक निभाना मुश्किल होता है.
=-=-=-=-=
पत्थर की दुनिया जज्बात नहीं समझती ;
दिल में क्या है वो बात नहीं समझती ;
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है ;
पर चाँद का दर्द वो रात नहीं समझती।
=-=-=-=-=
जिंदगी एक आइना है, यहाँ पर हर कुछ छुपाना पड़ता है|
दिल में हो लाख गम फिर भी महफ़िल में मुस्कुराना पड़ता है |
=-=-=-=-=
राज ना आयेगा मुजपर अब कोई भी सितम तेरा,
ईतना बिखर गया हू कि दरिंदगी भी तेरी शमँसार हो जाये.
=-=-=-=-=
जिंदगी आ बैठ, ज़रा बात तो सुन,
मुहब्बत कर बैठा हूँ, कोई मशवरा तो दे।
=-=-=-=-=
मेरी सब कोशिशें नाकाम थी उनको मनाने कि,
कहाँ सीखीं है ज़ालिम ने अदाएं रूठ जाने कि..
=-=-=-=-=
यूँ ही वो दे रहा है क़त्ल कि धमकियाँ..,
हम कौन सा ज़िंदा हैं जो मर जाएंगे..
=-=-=-=-=
तेरे ही अक्स को तेरा दुश्मन बना दिया
आईने ने मज़ाक़ में सौतन बना दिया….
=-=-=-=-=
कम नहीं मेरी जिंदगी के लिए, चैन मिल जाये दो घडी के लिए,
ऐ दिलदार कौन है तेरा क्यों तड़पता है यू किसी के लिए.
=-=-=-=-=
उसकी यादों को किसी कोने में छुपा नहीं सकता,
उसके चेहरे की मुस्कान कभी भुला नहीं सकता,
मेरा बस चलता तो उसकी हर याद को भूल जाता,
लेकिन इस टूटे दिल को मैं समझा नहीं सकता
=-=-=-=-=
सच्चाई को अपनाना आसान नहीं
दुनिया भर से झगड़ा करना पड़ता है
जब सारे के सारे ही बेपर्दा हों
ऐसे में खु़द पर्दा करना पड़ता है
=-=-=-=-=
किसी को इश्क़ की अच्छाई ने मार डाला,
किसी को इश्क़ की गहराई ने मार डाला,
करके इश्क़ कोई ना बच सका,
जो बच गया उससे तन्हाई ने मार डाला
=-=-=-=-=
नदी जब किनारा छोड़ देती है
राह की चट्टान तक तोड़ देती है
बात छोटी सी अगर चुभ जाते है दिल में
ज़िन्दगी के रास्तों को मोड़ देती है
=-=-=-=-=
तूने देखा है कभी एक नज़र शाम के बाद
कितने चुपचाप से लगते हैं शज़र शाम के बाद
तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दुख
तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद
=-=-=-=-=
मौसम को मौसम की बहारों ने लूटा,
हमे कश्ती ने नहीं किनारों ने लूटा,
आप तो डर गये मेरी एक ही कसम से,
आपकी कसम देकर हमें तो हज़ारों ने लूटा….
=-=-=-=-=
नीम का पेड़ था बरसात थी और झूला था
गाँव में गुज़रा ज़माना भी ग़ज़ल जैसा था
=-=-=-=-=
दुनिया तेरी रौनक़ से मैं अब ऊब रहा हूँ
तू चाँद मुझे कहती थी मैं डूब रहा हूँ
=-=-=-=-=
चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं,
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते है,
बच के रहना इन हुसन वालों से यारो,
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं
=-=-=-=-=
मुझे नींद की इजाज़त भी उसकी यादों से लेनी पड़ती है,
जो खुद तो सो जाता है, मुझे करवटों में छोड़ कर!
=-=-=-=-=
लाख हों हम में प्यार की बातें
ये लड़ाई हमेशा चलती है.
उसके इक दोस्त से मैं जलता हूँ
मेरी इक दोस्त से वो जलती है
=-=-=-=-=
मैँ कैसा हूँ’ ये कोई नहीँ जानता,
मै कैसा नहीँ हूँ’
ये तो शहर का हर शख्स बता सकता है…
=-=-=-=-=
ज़िन्दगी में इक मुकाम आया तो था
भूले से सही तेरा सलाम आया तो था
न जानें तुझे खबर है, है की नहीं
मेरे अफ़साने में तेरा नाम आया तो था
=-=-=-=-=
“जाने कब-कब किस-किस ने कैसे-कैसे तरसाया मुझे,
तन्हाईयों की बात न पूछो महफ़िलों ने भी बहुत रुलाया मुझे”
=-=-=-=-=
में पिए रहु या न पिए रहु,लड़खड़ाकर ही चलता हु ,
क्योकि तेरी गली कि हवा ही मुझे शराब लगती हे
=-=-=-=-=
बड़ी तब्दीलियां लाया हूँ अपने आप में लेकिन,
बस तुमको याद करने की वो आदत अब भी है।।
=-=-=-=-=
हमसे ना कट सकेगा अंधेरो का ये सफर…
अब शाम हो रही हे मेरा हाथ थाम लो…. !!!
=-=-=-=-=
तेरी वफाओं का समन्दर किसी और के लिए होगा,
हम तो तेरे साहिल से रोज प्यासे ही गुजर जाते हैं !!
=-=-=-=-=
नजर में बदलाव है उनकी, हमने देखा है आजकल !
एक अदना सा आदमी भी , आँख दिखा जाता है !!
=-=-=-=-=
कोई आँखों में बात कर लेता है,
कोई आँखों आँखों में मुलाकात कर लेता है.
मुश्किल होता है जवाब देना…
जब कोई खामोश रह करभी सवाल कर लेता है!
=-=-=-=-=
हमें तो प्यार के दो लफ्ज ही नसीब नहीं,
और बदनाम ऐसे जैसे इश्क के बादशाह थे हम..
=-=-=-=-=
तुझे तो मोहब्बत भी तेरी ऒकात से ज्यादा की थी …..
अब तो बात नफरत की है , सोच तेरा क्या होगा…. .
=-=-=-=-=
वो कहने लगी, नकाब में भी पहचान लेते हो हजारों के बीच ?
में ने मुस्करा के कहा, तेरी आँखों से ही शुरू हुआ था “इश्क”,
हज़ारों के बीच.”
=-=-=-=-=
शौक से तोड़ो दिल मेरा मैं क्यों परवाह करूँ…..!
तुम ही रहते हो इसमें अपना ही घर उजाड़ोगे….!
=-=-=-=-=
ये मुकरने का अंदाज़ मुझे भी सीखा दो
वादे नीभा-नीभा के थक गया हूँ मैं…
=-=-=-=-=
तन्हाई के लम्हे अब तेरी यादों का पता पूछते हैं…
तुझे भूलने की बात करूँ तो… ये तेरी खता पूछते हैं…!!
=-=-=-=-=
आज उसे एहसास मेरी मोहब्बत का हुआ
शहर में जब चर्चा….मेरी शोहरत का हुआ,
नाम नहीं लेती…..मुझे अब जान कहती है
देखो कितना असर उसपर दौलत का हुआ…
=-=-=-=-=
अजब मुकाम पे ठहरा हुआ है काफिला जिंदगी का,
सुकून ढूंढने चले थे, नींद ही गंवा बैठे”…..!!!
=-=-=-=-=
हमें भुलाकर सोना तो तेरी आदत ही बन गई है, अय सनम;
किसी दिन हम सो गए तो तुझे नींद से नफ़रत हो जायेगी।
=-=-=-=-=
पहले हाथ से लिखा
प्रेम पत्र देते थे,
अब touchscreen
फ़ोन पर टाइप करके भेज देते हैं…..
इश्क़ में ये दुनिया
फिर से अँगूठा-छाप
हो गयी”
=-=-=-=-=
जिंदगी हमारी यूं सितम हो गई
खुशी ना जानें कहां दफन हो गई
=-=-=-=-=
लिखी खुदा ने मुहब्बत सबकी तकदीर में
हमारी बारी आई तो स्याही खत्म हो गई
=-=-=-=-=
ये ना पूछ कितनी शिकायतें हैं तुझसे ऐ ज़िन्दगी,
सिर्फ इतना बता की तेरा कोई और सितम बाक़ी तो नहीं.
=-=-=-=-=
ग़ज़ल लिखी हमने उनके होंठों को चूम कर,
वो ज़िद्द कर के बोले… ‘फिर से सुनाओ’…..!!”
=-=-=-=-=
मोहब्बत भी उस मोड़ पे पहुँच चुकी है,
कि अब उसको प्यार से भी मेसेज करो,
तो वो पूछती है कितनी पी है?………
=-=-=-=-=
एक बार और देख के आज़ाद कर दे मुझे,
में आज भी तेरी पहली नज़र के कैद में हूँ…!!
=-=-=-=-=
शुक्रिया मोहब्बत तुने मुझे गम दिया,
वरना शिकायत थी ज़िन्दगी ने जो भी दिया कम दिया…!!
=-=-=-=-=
रुखसत हुए तेरी गली से हम आज कुछ इस कदर……..
लोगो के मुह पे राम नाम था….
और मेरे दिल में बस तेरा नाम था….
=-=-=-=-=
तेरे चेहरे पर अश्कों की लकीर बन गयी ,
जो न सोचा था तू वो तक़दीर बन गयी !!.
=-=-=-=-=
हमने तो फिराई थी रेतो पर उंगलिया ,
मुड़ कर देखा तो तुम्हारी “तस्वीर
“बन गयी .!!
=-=-=-=-=
“बिकता है गम इश्क के बाज़ार में,
लाखों दर्द छुपे होते हैं एक छोटे से इंकार में,
हो जाओ अगर ज़माने से दुखी,
तो स्वागत है हमारी दोस्तीके दरबार में.”
=-=-=-=-=
क्या रखा है अपनी ज़िँदगी के इस अफ़साने मेँ..
कुछ गुज़र गई अपना बनाने मेँ, कुछ गुज़र गई अपनो को मनाने मेँ..
=-=-=-=-=
एक फूल अजीब था,
कभी हमारे भी बहुत करीब था,
जब हम चाहने लगे उसे,
तो पता चला वो किसी दूसरे का नसीब था ।
=-=-=-=-=
उठाये जो हाथ उन्हें मांगने के लिए,
किस्मत ने कहा, अपनी औकात में रहो।
=-=-=-=-=
मुझे परिन्दा न समझो यारो ,
मै वो नही जो तूफ़ा में आशियाँ बदल ल
=-=-=-=-=
अफवाह थी कि मेरी तबियत खराब है,
लोगों ने पूछ पूछ कर बीमार कर दिया…
=-=-=-=-=
मज़हब, दौलत, ज़ात, घराना, सरहद, ग़ैरत, खुद्दारी,
एक मुहब्बत की चादर को, कितने चूहे कुतर गए…
=-=-=-=-=
लोगों ने पूछा कि कौन है वोह
जो तेरी ये उदास हालत कर गया ??
मैंने मुस्कुरा के कहा उसका नाम
हर किसी के लबों पर अच्छा नहीं लगता …!
=-=-=-=-=
आंखे कितनी भी छोटी क्यु ना हो,
ताकत तो उसमे सारे आसमान देखने कि होती हॆ…
=-=-=-=-=
सुनी थी सिर्फ हमने ग़ज़लों में जुदाई की बातें ;
अब खुद पे बीती तो हक़ीक़त का अंदाज़ा हुआ !!
=-=-=-=-=
टुकड़े पड़े थे राह में किसी हसीना की तस्वीर के…
लगता है कोई दीवाना आज समझदार हो गया है…!!!!
=-=-=-=-=
आपकी यादें भी हैं, मेरे बचपन के खिलौनो जैसी ..
तन्हा होते हैं तो इन्हें ले कर बैठ जाते हैं…!
=-=-=-=-=
किन लफ्ज़ो में बयां करूँ अपने दर्द को,
सुनने वाले तो बहुत है समझने वाला कोई नहीं
=-=-=-=-=
 “ये वक़्त बेवक़्त मेरे ख्यालों
में आने की आदत छोड़ दो तुम,
कसूर तुम्हारा होता है और
लोग मुझे आवारा समझते हैं”
=-=-=-=-=
हर मुलाक़ात पर वक़्त का तकाज़ा हुआ ;
हर याद पे दिल का दर्द ताज़ा हुआ .!
=-=-=-=-=
जब तक ना लगे बेवफाई की ठोकर
हर कीसी को अपनी पसंद पे नाझ होता है।
=-=-=-=-=
घृणा के घाव से जो लहू टपकता है उससे नफरत
ही पलती है
प्यार के घाव से जो दर्द मिलता है उससे भी राहत मिलती है .
=-=-=-=-=
हकीकत को हादसे का नाम लेकर खुद को तो संभाल लिया हमने
पर दिल को ख्वाबो से निजात देना इतना भी आसन नहीं है जहा मे …
=-=-=-=-=
गुज़र जायेगी ज़िन्दगी उसके बगैर भी,
वो हसरत-ए-ज़िन्दगी है ….शर्त-ए-ज़िन्दगी तो नहीं……!!
=-=-=-=-=
याददाश्त की दवा बताने में सारी दुनिया लगी है !!!…
तुमसे बन सके तो तुम हमें भूलने की दवा बता दो…!!!
=-=-=-=-=
कुछ तो शराफ़त सीख ले, ए इश्क़, शराब से..;
बोतल पे लिखा तो है,मैं जान लेवा हूँ..!!
=-=-=-=-=
“उनसे क़ह दे कोई जाकर कि हमारी सजा कुछ कम कर दे,
हम पैशे से मुजरिम नहीं हैं बस गलती से इश्क हुआ है।…”
=-=-=-=-=
चिराग कोई जलाओ की हो वजूद का एहसास,
इन अँधेरों में मेरा साया भी छोड़ गया मुझको !!!
=-=-=-=-=
उसके नर्म हाथों से फिसल जाती है चीज़ें अक्सर ….,
मेरा दिल भी लगा है उनके हाथो , खुदा खैर करे …
=-=-=-=-=
अब तुझे न सोचू तो, जिस्म टूटने-सा लगता है..
एक वक़्त गुजरा है तेरे नाम का नशा करते~करते !
=-=-=-=-=
“ना छेड किस्सा-ए-उल्फत, बडी लम्बी कहानी है,
मैं ज़माने से नहीं हारा, किसी की बात मानी है,,,,,,।।
=-=-=-=-=
 “शाम खाली है जाम खाली है,ज़िन्दगी यूँ गुज़रने वाली है,
सब लूट लिया तुमने जानेजाँ मेरा,मैने तन्हाई मगर बचा ली है”
=-=-=-=-=
आग सूरज मैँ होती हैँ जलना जमीन को पडता हैँ,
मोहब्बत निगाहेँ करती हैँ तडपना दिल को पडता हैँ.
=-=-=-=-=
शायरी इक शरारत भरी शाम है,
हर सुख़न इक छलकता हुआ जाम है,
जब ये प्याले ग़ज़ल के पिए तो लगा
मयक़दा तो बिना बात बदनाम है….
=-=-=-=-=
कभी रो के मुस्कुराए , कभी मुस्कुरा के रोए,
जब भी तेरी याद आई तुझे भुला के रोए,
एक तेरा ही तो नाम था जिसे हज़ार बार लिखा,
जितना लिख के खुश हुए उस से ज़यादा मिटा के रोए..
=-=-=-=-=
सदियों बाद उस अजनबी से मुलाक़ात हुई,
आँखों ही आँखों में चाहत की हर बात हुई,
जाते हुए उसने देखा मुझे चाहत भरी निगाहों से,
मेरी भी आँखों से आंसुओं की बरसात हुई.
=-=-=-=-=
देख के हमको वो सर झुकाते हैं,
बुला कर महफ़िल में नजरें चुराते हैं,
नफरत हैं तो कह देते हमसे,
गैरों से मिलकर क्यों दिल जलाते हैं..
=-=-=-=-=
तरक्की की फसल, हम भी काट लेते..!
थोड़े से तलवे, अगर हम भी चाट लेते..!!
=-=-=-=-=
किसी साहिल पे जाऊं एक ही आवाज़ आती है
तुझे रुकना जहाँ है वो किनारा और है कोई!
=-=-=-=-=
नींद को आज भी शिकवा है मेरी आँखों से।
मैंने आने न दिया उसको तेरी याद से पहले।
=-=-=-=-=
शुक्रिया मोहब्बत तुने मुझे गम दिया,
वरना शिकायत थी ज़िन्दगी ने जो भी दिया कम दिया…!!
=-=-=-=-=
जब हुई थी मोहब्बत तो लगा किसी अच्छे काम का है सिला।
खबर न थी के गुनाहों कि सजा ऐसे भी मिलती है।
=-=-=-=-=
कल रात मैंने अपने सारे ग़म कमरे की दीवारों पे लिख डाले ,
बस हम सोते रहे और दीवारें रोती रहीं …
=-=-=-=-=
 “संग ए मरमर से तराशा खुदा ने तेरे बदन को,
बाकी जो पत्थर बचा उससे तेरा दिल बना दिया .
=-=-=-=-=
क्या हुआ अगर जिंदगी में हम तन्हा है ???
लेकिन इतनी अहमियत तो दोस्तो में बना ही ली है कि…
मेला लग जायेगा उस दिन शमशान में,
जिस दिन मैँ चला जाँऊगा आसमान में !!
=-=-=-=-=
जब भी देखा मेरे कीरदार पे धब्बा कोई
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई
=-=-=-=-=
ले रहे थे मोहब्बत के बाज़ार में इश्क की चादर…
लोगो ने आवाज़ दी कफन भी ले लो…
=-=-=-=-=
इश्क करने चला है तो कुछ अदब भी सीख लेना, ए दोस्त
इसमें हँसते साथ है पर रोना अकेले ही पड़ता है.
=-=-=-=-=
बैठ जाता हूं मिट्टी पे अक्सर…
क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है….
=-=-=-=-=
थक गया हूँ मै, खुद को साबित करते करते, दोस्तों..
मेरे तरीके गलत हो सकते हैं, लेकिन इरादे नहीं…!!!
=-=-=-=-=
तलाश है इक ऐसे शक्स की , जो आँखो मे उस वक्त दर्द देख ले,
जब दुनियाँ हमसे कहती है, क्या यार तुम हमेशा हँसते ही रहते हो..
=-=-=-=-=
मज़बूरियाँ थी उनकी…और जुदा हम हुए
तब भी कहते है वो….कि बेवफ़ा हम हुए…..
=-=-=-=-=
छोड़ दो किसी से वफ़ा की आस,
ए दोस्त
जो रुला सकता है, वो भुला भी सकता है.!
=-=-=-=-=
इतना जलाने के बाद भी, वो ज़ालिम धुआं ढूंढते हे ,
“निकलते हे आंसू कहाँ से इतने”?,पूछकर, कुआं ढूंढते हे…
=-=-=-=-=
गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम,
खुशी थोड़ी सी मिली, उसे खुश होकर पी गए हम,
यूं तो ना थे हम पीने के आदी,
 शराब को तन्हा देखा तो तरस खाकर पी गए हम..
=-=-=-=-=
तू मुझे ओर मैं तुझे इल्ज़ाम देते हैं मगर,
अपने अंदर झाँकता तू भी नही, मैं भी नही… !!
=-=-=-=-=
ख़ुशी मेरी तलाश में दिन रात यूँ ही भटकती रही….
कभी उसे मेरा घर ना मिला कभी उसे हम घर ना मिले….!!
=-=-=-=-=
क्यूँ शर्मिंदा करते हो रोज, हाल हमारा पूँछ कर ,
हाल हमारा वही है जो तुमने बना रखा है…
=-=-=-=-=
सोचा था की ख़ुदा के सिवा मुझे कोई बर्बाद कर नही सकता…
फिर उनकी मोहब्बत ने मेरे सारे वहम तोड़ दिए…….
=-=-=-=-=
यही सोच के रुक जाता हूँ मैं आते-आते,
फरेब बहुत है यहाँ चाहने वालों की महफ़िल में।
=-=-=-=-=
कभी वादे भी तोड़ लिया करो तुम,
जरा रूठने का तज़ुर्बा हासिल हो जाए..
=-=-=-=-=
तुम से बिछड के फर्क बस इतना हुआ..
तेरा गया कुछ नहीँ और मेरा रहा कुछ नहीँ..
=-=-=-=-=
वो
जो कहता था तुम न मिले तो मर जाएंगे हम…
वो आज भी जिन्दा है, ये बात किसी और से कहने के लिए…
=-=-=-=-=
सुना हे, वोह जब मायुश होते हे, हमे बहोत याद करते हे
अये खुदा, अब तुहि बता, उसकी खुशी की दुआ करु या मायुशि कि!!!
=-=-=-=-=
जिंदगी जब किसी दो राह पर आती हैं
एक अजीब सी कशमकश में पड जाती हैं
चुनते हैं हम किसी एक राह को
पर दुसरी राह जिंदगी भर याद आती हैं
=-=-=-=-=
युं खामखा न करो रंगों को मुजपे बरबाद दोस्तो…
हम तो पहले से ही रंगे हुऐ है इश्कमें…..
=-=-=-=-=
थक सा गया हूँ , खुद को सही साबित करते करते ,
खुदा गलत हो सकता है , मगर मेरी मुहब्बत नहीं ………..
=-=-=-=-=
खूबियाँ इतनी तो नही हम मे, कि तुम्हे कभी याद आएँगे,
पर इतना तो ऐतबार है हमे खुद पर, आप हमे कभी भूल नही पाएँगे..
=-=-=-=-=
हथियार तो सिर्फ शौक के लिए रखा करते है,
वरना किसी के मन में खौंफ पेदा करने के लिए तो बस नाम ही काफी हे.
=-=-=-=-=
आंखे भी संभाल कर बंद करना ऐ दोस्तो,
पलको के बीच भी, सपने तुट जाया करते है…!
=-=-=-=-=
हमें अंधेरों ने इस कदर घेरा कि
उजालों की पहचान ही खो गयी,
तक़दीर ने हमें इस कदर मारा कि
अपनों की पहचान ही खो गयी,
कोशिशों का हमनें कभी दामन न छोड़ा
पर लगता है हमारी किस्मत ही सो गयी..
=-=-=-=-=
कैसे करूं मुकदमा उस पर उसकी बेवफाई का…
कमबख्त ये दिल भी उसी का वकील निकला…!!
  

Search Terms : Hindi Sad Shayari, Tanhai
Shayari, Judai Shayari, Bewafai Shayari, Toote Dil Ki Shayari, Broken Heart
Shayari, Udaas Shayari, Dard Bhari Shayari, Sad Shayari In Hindi Font, Shayari
In Text, Loneliness  Shayari, 2 Lines Shayari, Hindi Shayari Collection,
Heart Touching Shayari

loading...
Loading...
Loading...
Hindi Shayari Dil Se © 2015