अपनी नींद से मुझे कुछ यूँ भी मोहब्बत है"फ़राज़"… ….की उसने कहा था मुझे पाना एक ख्वाब है तेरे लिए


अपनी नींद से मुझे कुछ यूँ भी मोहब्बत है”फ़राज़”…
….की उसने कहा था मुझे पाना एक ख्वाब है तेरे लिए

Leave a Reply